1993 में भी लगा था कफ्र्यू

तब भी नहीं हुआ था महोत्सव
नवरात्र पर नहीं खुले मंदिरों के पट

भीलवाड़ा।
Curfew was also imposed in 1993 in bhilwara चैत्र नवरात्र के प्रारम्भ होने के बाद भी मंदिरों के पट तक नहीं खुल सके। जिन मंदिरों में घट स्थापना की गई वहा पुजारी के अलावा कोई भी नहीं था। मंदिरों में दर्शनार्थ के लिए भक्त तक नहीं आ रहे है। जैन समाज के सभी मंदिर बन्द पड़े है। वही शक्ति पीठो पर भी पूजा के अलावा कुछ नहीं हो रहा है। उधर माहेश्वरी समाज चारभुजा मंदिर ट्रस्ट की 200 वर्ष से चली आ रही परंपरा एवं सास्कृतिक धरोहर एक बार फिर टूटी है। कोरोना वायरस के चलते 200 वर्ष पुराने मंदिर की ओर से मनाए जाने वाले फाग महोत्सव की परम्परा टूट गई है। नवरात्र से एक दिन पूर्व 24 मार्च को चारभुजा बड़े मंदिर से बेवान निकलकर पूरे शहर का भ्रमण करता है। Curfew was also imposed in 1993 in bhilwara फाग महोत्सव मनाया जाता है लेकिन इस बार शहर में कोरोना वायरस के कारण इस परम्परा को रोक दिया गया है। बेवाण पूरी रात नगर भ्रमण के बाद चैत्र शुक्ला एकम नव वर्ष सुबह बड़े मंदिर में प्रवेश होता है। उसके साथ ही मंदिर में घट स्थापना की जाती है। फाग महोत्सव के तहत लगाए जाने वाला छप्पन भोग भी ठाकुर जी के नहीं लगा।
माहेश्वरी समाज बड़ा मंदीर चारभुजा ट्रस्ट अध्यक्ष उदयलाल समदानीए सचिव रामस्वरूप सांमरियाए वरिष्ठ उपाध्यक्ष राकेश पटवारीए संरक्षक रामेश्वर तोषनीवाल ने बताया कि 200 वर्ष से चली आ रही परंपरा 12 मार्च 1992 में शहीद चौक में गोली कांड होने से कफ्र्यू के कारण फाग महोत्सव नही मनाया गया था।
मंदिरों में हुई केवल पूजा अर्चना
नवरात्र के मौके पर शहर में कोई कार्यक्रम नहीं हुआ। केवल मंदिरों में धट स्थापना व पूजा ही हो सके। श्रद्धालु देवी माता के दर्शन तक नहीं कर सके। इस बार नवरात्र 9 दिन के होंगे। इन 9 दिनों में से 7 दिन शुभ संयोग हैं व 4 दिन सर्वार्थ सिद्धि योग है। दो अप्रेल रामनवमी मनाई जाएगी। लेकिन कोरोना वायरस के चलते किसी तरह के आयोजन तक नहीं हो पा रहे है। पंडित अशोक शर्मा ने बताया कि नवरात्र में कोई भी तिथि घटने.बढऩे की स्थिति नहीं होने के कारण नौ दिन के होंगे। नवरात्र के दौरान सर्वार्थ सिद्धि योगए राजयोगए रवि योगए कुमार योगए अमृत सिद्धि योगए द्विपुष्कर योग व गुरु पुष्य योग बन रहे हैंए जो खुशहालीए सुख.समृद्धि व संपन्नता के प्रतीक है। हालांकि लॉक डाउन होने के कारण इसका असर हर आम व्यक्ति पर पडेगा। मंदिरों में भी केवल पूजा पाठ ही हो सकेगी। दर्शनों के लिए ज्यादा भीड़ जमा नहीं हो सकेगी।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned