scriptDeepotsav from today, money will rain in the market | दीपोत्सव आज से, बाजार में बरसेगा धन | Patrika News

दीपोत्सव आज से, बाजार में बरसेगा धन

त्रिपुष्कर योग में शुरू होगा महालक्ष्मी का त्योहार
4 को दीपावली, 5 को गोवर्धन पूजा व अन्नकूट, 6 को भाई दूज मनाएंगे

भीलवाड़ा

Published: November 02, 2021 09:21:07 am

भीलवाड़ा।
पांच दिवसीय दीपोत्सव मंगलवार को धनतेरस के साथ शुरू होगा। दीपोत्सव त्रिपुष्कर योग में शुरू होगा। पांच दिवसीय दीपोत्सव में विभिन्न देवताओं का पूजन होगा। यह धन त्रयोदशी से शुरू होकर भाई दूज तक चलेगा। पहले दिन कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को धनाध्यक्ष कुबेर के पूजन से शुरू होगा, जो मृत्यु के देवता यमराज के लिए दीपदान तक चलेगा। मंगलवार को धनतेरस पर बाजार में धन बरसेगा।
पंडित अशोक व्यास का कहना है कि तेरस तिथि मंगलवार सुबह 11.31 से शुरू होगी। बुधवार सुबह 9.03 तक रहेगी। त्रिपुष्कर योग सूर्योदय से सुबह 11.31 बजे तक रहेगा। इस बार चतुर्दशी तिथि का क्षय हुआ। रूप चौदस बुधवार को सर्वार्थ सिद्धि योग सूर्य उदय से सुबह 9.58 तक रहेगा। 4 नवंबर को दीपावली व 5 को गोवर्धन पूजा व अन्नकूट महोत्सव और 6 नवंबर को विशेष योगों के बीच भाई दूज मनाई जाएगी।
दीपदान से शुरुआत
इस दिन अमृतधारी भगवान धन्वन्तरि की पूजा करेंगे। इसी दिन से यमराज के लिए दीपदान से दीप जलाने की शुरुआत होगी और पांच दिन तक जलाए जाएंगे। अशोक व्यास के अनुसार लोकाचार में इस दिन खरीदे गए सोने या चांदी के धातुमय पात्र अक्षय सुख देते हैं। लोग नए बर्तन या दूसरे नए सामान खरीदेंगे। इस दिन झाडू खरीदने की भी परंपरा है।
रूप चतुर्दशी पर महिलाएं संवारेगी रूप
चतुर्दशी तिथि को भगवान विष्णु ने माता अदिति के आभूषण चुराकर ले जाने वाले निशाचर नरकासुर का वध कर 16 हजार कन्याओं को मुक्ति दिलाई थी। परंपरा में इसे शारीरिक सज्जा और अलंकार का दिन भी माना गया है। इसे रूप चतुर्दशी भी कहा जाता है। इस दिन महिलाएं ब्रह्म मुहूर्त में हल्दी, चंदन, सरसो का तेल मिलाकर उबटन तैयार कर शरीर पर लेप कर उससे स्नान कर अपना रूप निखारेंगी।
दीपोत्सव पर महालक्ष्मी-गणेश पूजन
अथर्ववेद में लिखा है कि जल, अन्न और सारे सुख देने वाली पृथ्वी माता को ही दीपावली के दिन भगवती लक्ष्मी के रूप में पूजा जाता है। कार्तिक अमावस्या का दिन अंधेरे की अनादि सत्ता को अंत में बदल देता है, जब छोटे-छोटे ज्योति कलश दीप जगमगाने लगते हैं। प्रदोषकाल में माता लक्ष्मी के साथ गणपति, सरस्वती, कुबेर और भगवान विष्णु की पूजा का विधान है। बाजारों में दीपावली की रौनक छाई हुई है। सजावट के सामान से लेकर मिट्‌टी के दीए की जमकर खरीदारी हो रही है।
दीपोत्सव आज से, बाजार में बरसेगा धन
दीपोत्सव आज से, बाजार में बरसेगा धन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Corona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करआज जारी होगा कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं के लिए होंगे कई वादे'कुछ लोग देशप्रेम व बलिदान नहीं समझ सकते', अमर जवान ज्योति के वॉर मेमोरियल में विलय पर राहुल गांधीVIDEO: राजस्थान का 35 प्रतिशत हिस्सा कोहरे से ढका, अब रहेगा बारिश और ओलावृष्टि का जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.