scriptDemand for our yarn here in 60 countries | हमारे यहां के धागे की 60 देशों में मांग | Patrika News

हमारे यहां के धागे की 60 देशों में मांग

हर दिन एक हजार टन उत्पादन
भीलवाड़ा में 18 स्पिनिंग इकाइयां
प्रदेश के 22 लाख में से 11.74 लाख स्पिंडल भीलवाड़ा में
1200 करोड़ रुपए का यार्न होता है एक्सपोर्ट

भीलवाड़ा

Published: November 08, 2021 08:53:05 am

सुरेश जैन
भीलवाड़ा।
हमारे यहां बनने वाले धागे की विदेशों में भी काफी मांग है। भीलवाड़ा में 18 स्पिनिंग इकाइयां में प्रतिदिन एक हजार टन धागे का उत्पादन होता है। इसमें से 60 फीसदी धागा 60 से अधिक देशों निर्यात होता है। इस धागे की चीन, बांग्लादेश, पौलेंड, टर्की, ब्राजील, जर्मनी, इजिप्ट, कॉलम्बिया, मैक्सिको, चिली, श्रीलंका आदि देश में काफी मांग है। इन देशों की मांग पूरी करने के लिए यहां की मशीनें कभी नहीं रुकती हैं। लगातार 24 घंटे यहां धागा तैयार होता है। यहां धागा तैयार करने की 18 फैक्ट्रियां हैं। इनमें कपास या पॉलीस्टर फाइबर से 20 से लेकर 60 विभिन्न काउंट का धागा बनता है। विभिन्न प्रक्रिया से गुजरने के बाद एक्सपोर्ट पैकिंग के लिए धागा तैयार होता है। इसके लिए भी उद्यमियों ने अत्याधुनिक मशीने लगा रखी हैं। सबसे पहले कपास की गांठ आती है, जो ब्लोरूम मशीन में साफ होती है। उसके बाद इसकी क्लीनिंग, ओपनिंग होकर मिक्सिंग होती है। तब जाकर धागा तैयार होता है।
सोलर प्लांट से बिजली की बचत
धागा फैक्ट्री में सोलर प्लांट लगे हैं। इससे बिजली की भी बचत होती है। सोलर पैनल से बिजली की काफी मांग पूरी हो रही है। सबसे बड़ी बात है कि यह सभी स्पिनिंग इकाइयां प्रदूषण रहित हैं।
आधुनिक तकनीक की मशीनें हैं भीलवाड़ा में
राजस्थान टेक्सटाइल मिल्स एसोसिएशन के चेयरमैन एसएन मोदानी ने बताया कि भीलवाड़ा के सभी स्पिनिगं उद्योगों में अत्याधुनिक मशीनें लगी हैं। कपास की सफाई से लेकर ऑटोमेटिक मशीनों से ही धागा बनता है। अच्छे किस्म के कपास के साथ ऑटोमेटिक मशीनों से प्रक्रिया से गुजरने के बाद एक्सपोर्ट क्वालिटी का धागा बनता है। धागा तैयार होने के बाद यहां लेबोरेट्री में उसकी जांच की जाती है। टेस्टिंग में खरा उतरने के बाद ही धागा फैक्ट्रियों तक पहुंचता है।
40 हजार लोगों को रोजगार
18 स्पिनिंग मिलों में 40 हजार लोगों को रोजगार मिलता है। इनमें 2 हजार से अधिक महिलाएं हैं। साथ ही श्रमिक को काम सिखाने के लिए ट्रेनिंग सेन्टर तक खोल रखा है। मोदानी का कहना है कि देश व राजस्थान का एक मात्र टेक्सटाल उद्योग क्षेत्र भीलवाड़ा है, जहां स्पिनिंग में अत्याधुनिक मशीनें लगी है। यहां करीब 11.74 लाख स्पिंडल लगे है।
60 देशों में हो रहा निर्यात
वस्त्रनगरी से इजिप्ट, टर्की समेत 60 से अधिक देशों में कॉटन यार्न (सूती धागा) निर्यात किया जा रहा है। यहां नितिन स्पिनर्स, सुदिवा, लग्नम तथा आरएसडब्ल्यूएम मिलांज आदि मुख्य रूप से कॉटन यार्न बना रही हैं। कंचन इण्डिया लिमिटेड, संगम ग्रुप सहित अन्य मिलें खुद के लिए भी धागा तैयार कर रही हैं। दोनों मिलें कॉटन यार्न का उपयोग डेनिम के लिए कर रही हैं। यह निर्यात उत्पादन का 60 प्रतिशत से अधिक होता है। जिसकी कीमत करीब 1200 करोड़ रुपए है।
फैक्ट फाइल
2000 टैक्सटाइल मार्केट की दुकानें
14 जिनिंग उद्योग
18 स्पिनिंग
425 वीविंग
18 प्रोसेस हाउस
30 रेडिमेड इकाई
80 टीएफओ
.......
उत्पादन प्रतिवर्ष
80 करोड़ मीटर कपड़ा
25 करोड़ मीटर डेनिम
3.50 लाख टन यार्न
हमारे यहां के धागे की 60 देशों में मांग
हमारे यहां के धागे की 60 देशों में मांग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.