scriptDengue in bhilwara | गांवों में भी डेंगू का डंक | Patrika News

गांवों में भी डेंगू का डंक


अस्पतालों में जांच सुविधाओं का अभाव

भीलवाड़ा

Published: November 08, 2021 02:51:37 am

भीलवाड़ा।

जिले में डेंगू कम होने का नाम नहीं ले रहा है। लिगातार डेंगू, बुखार व वायरल के रोगी मिल रहे हैं। अस्पतालों में पर्याप्त जांच सुविधाएं व बेड नहीं होने से लोगों को जिला मुख्यालय आना पड़ रहा है। एमजीएच में रोजाना करीब ४०० रोगी आ रहे हैं। बाकी अस्पतालों और गांव-कस्बों में निजी अस्पतालों में रोगियों के आंकड़े प्रशासन के पास नहीं हैं। डॉक्टरों के अनुसार पहले केवल डेंगू में ही ऐसा होता था, जब रोगी की प्लेटलेट्स तेजी से गिरती थीं। अब वायरल रोगियों में भी ऐसा हो रहा है। डॉक्टर समझते हैं कि ये डेंगू के लक्षण हैं, लेकिन जब जांच कराते हैं तो डेंगू की रिपोर्ट नेगेटिव आती है। इसके बाद वायरल का इलाज शुरू करते हैं।
Dengue in bhilwara
Dengue in bhilwara

भरे पड़े हैं वार्ड
मौसमी बीमारियों से अस्पतालों के वार्र्ड भरे पड़े हैं। सर्वाधिक परेशानी बाल चिकित्सालय में आ रही है यहां पर एक-एक बेड पर दो से तीन बच्चों का इलाज चल रहा है। एमजीएच में भी बेड भर चुके हैं। अस्पताल प्रबंधन शीघ्र ही कोरोना की ही तरह स्पेशल वार्ड में शिफ्ंिटग करनी की तैयारी में है। बड़ों के साथ ही डेंगू व मौसमी बीमारी ने बच्चों को भी घेर रखा है। चिकित्सालय के वार्ड जहां बड़े रोगियों से फुल हैं, वहीं बच्चों के वार्ड में तो हालत खराब चल रही है। जिले में कई गांवों में अभी तक फॉगिंग भी नहीं हुई है। वहां मच्छरों का प्रकोप है।
मोबाइल टार्च से रोशनी व हाथ पंखी से हवा
जिले के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में उपकरण कई सालों से खराब होकर शो पीस बने हुए हैं। बिजली चले जाने पर हाथ पंखी से हवा व मोबाइल टोर्च से रोशनी करनी पड़ती है। जांच की सुविधाएं नहीं होने से लोगों को बाहर जाकर जांच करवानी पड़ती है।
एमजीएच की ओपीडी
महात्मा गांधी चिकित्सालय ओपीडी में २००० से 250० रोगी आते थे। गत दस दिनों से इस संख्या में लगातार बढ़ोतरी हुई है। इनमें ३० फीसदी रोगी वायरल के हैं। मेडिकल मेल और फीमेल वार्ड फु ल हो गए। गत दो माह में मलेरिया के ० डेंगू के 300 और चिकनगुनिया के ० रोगी सामने आए हैं।
डेंगू के लक्षण
अचानक तेज बुखार आना, सिर में तेज दर्द, आंखों के पीछे दर्द ओर आंखों के हिलने से दर्द में तेजी, मांसपेशियों व जोड़ों में दर्द, स्वाद का पता न चलना, छाती और ऊपरी अंगों पर दाने होना, उल्टी की शिकायत। डेंगू से ग्रसित व्यक्ति के प्लेटलेट्स कम होने लगते हैं। इसमें तत्काल सुधार की जरूरत होती है।
मौसमी बीमारियों व डेगूं के मरीज लगातार बढ़ रहे हैं। अलग वार्ड में भी मरीजों को भर्ती करने की व्यवस्थाएं की जा रही हैं। कोविड की तरह ही इस बीमारी से निपटने के लिए चिकित्सकीय टीम पूरी मुस्तैदी के साथ जुटी हुई है।
- डॉ. अरुण गौड़, अधीक्षक एमजीएच

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारकर्नाटक: शनिवार व रविवार को भी खुलेंगे बाजार लेकिन एक शर्त हैIND vs SA: मायूस विराट कोहली के चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.