हलक में अटकी मरीजों की जान, एसी खराब होने से बंद हुई जांच मशीनें, आधी ही हो पायी जांच

महात्मा गांधी जिला अस्पताल का अव्यवस्थाओं से गहरा नाता है

By: tej narayan

Published: 07 Jun 2018, 01:44 PM IST

भीलवाड़ा।

महात्मा गांधी जिला अस्पताल का अव्यवस्थाओं से गहरा नाता है। कभी सोनोग्राफी मशीन खराब हो जाती है तो कभी एक्सरे मशीन। बुधवार को लैबोरेट्री में लाखों रुपए की जांच मशीन बन्द हो गई क्योंकि लैब के छह में से पांच एयरकण्डीशनर खराब हैं। एसी खराब होने से मशीन गर्मी के चलते बंद हो गई।

 

READ: गाडिय़ा लुहार व बंजारा जाति को दाखिला एमबीसी में

 

इसके बाद एकबारगी तो मरीजों के ब्लड सेम्पल लेने का कार्य भी रोक दिया गया। लैब टेक्नीशियनों ने काफी प्रयास के बाद आइस पेड लगाकर जैसे तैसे मशीन चालू की। करीब एक घंटे बाद मशीन के चालू होने पर ही ब्लड सेम्पल लिए गए। मशीन के बंद होने से जांच आधी ही हो पाई। रोज 125 से 150 मरीजों की जांच होती है लेकिन मशीन बीच में बंद हो 85 मरीजों की ही जांच हो पाई।

 

READ: राजस्थान के इस जिला अस्पताल में काम खून पेशाब की जांच का और चख रहा है भोजन

 

बताया जा रहा है कि रेण्डोक्स बायोकेमेस्ट्री मशीन वातानुकुलित स्थान पर ही चल सकती है। पिछले लम्बे समय से एयरकंडीशनर खराब होने से लेब टेक्नीशियन आइस पेड लगाकर मशीन को चला रहे है। बुधवार को आइसपेड से भी काम नहीं चला। काफी मात्रा में आइस पेड लगाने के बाद ही मशीन चालू हो पाई।

 

मशीन बंद होने पर ब्लड सेम्पल से किया था मना
मैं बुधवार को किसी काम से मेडिकल कॉलेज गई थी। मशीन बंद होने की जानकारी मिली तो मरीजों के ब्लड सेम्पल लेने से मना कर दिया। मशीन किन कारणों से बंद हो रही है, पता करवाएंगे। मरीजों के हित का पूरा ध्यान रखा जाएगा।
डॉ. चित्रा पुरोहित, प्रभारी लैबोरेट्री, महात्मा गांधी अस्पताल भीलवाड़ा

 

ऋण वसूली की बनाई रणनीति
भीलवाड़ा अरबन को-ऑपरेटिव बैंक के संचालक मण्डल की बैठक में ऋण वसूली पर चर्चा हुई।
सदस्यों ने अवधिपार ऋण की वसूली कैसे की जाए, इसी पर चर्चा की। तीन माह से तैयार 9 पत्रावलियों पर फिर चर्चा की गई। बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरविन्द ओझा ने बताया, रजिस्ट्रार के आदेश के अनुसार सीईओ को धारा 99 व 100 के अधिकार मिले है।

इसके तहत नीलामी का अधिकार मिलने से अब ऋण वसूली करने में परेशानी नहीं आएगी। बैक के कार्य को गति देने के लिए कमेटी बनाई गई, जो प्रतिदिन के काम पर नजर रखेगी तथा रिपोर्ट देगी। बैंक अध्यक्ष पायल अग्रवाल ने बताया कि जिन लोगों के ऋण बकाया है, वह समय पर राशि बैंक में जमा कराकर एनओसी ले सकते है।

ऐसा न करने वालों के खिलाफ जल्द नीलामी कार्रवाई की जाएगी। इस माह आम सभा को फिलहाल आगे बढ़ा दिया है। सदस्यों ने भी चर्चा की है कि 9 जुलाई को आरबीआई के आधार पर बैक की अन्तिम तारीख है। इससे पहले बैंक के कर्मचारी व संचालक मण्डल पूरी ताकत के साथ ऋण वसूली में लगना होगा।

tej narayan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned