रोक न टोक, नियम कायदे भूलते लोग

संक्रमितों का आंकड़ा लगातार चौथे दिन 100 पार

By: Suresh Jain

Published: 10 Sep 2020, 05:02 AM IST

भीलवाड़ा।
शहर में एक दिन में 6 कोरोना संक्रमित आने पर जिलेवासियों ने 57 दिन का कफ्र्यू झेल लिया। अब 3300 से अधिक संक्रमित आ चुके हैं। इसके पीछे लोगों की लापरवाही भी सामने आ रही है। बीते चार दिन से लगातार १०० से अधिक लोग संक्रमित आ रहे हैं। मंगलवार को कोरोना का आंकड़ा दोहरे शतक के करीब पहुंच गया तो बुधवार को सैकड़ा लगा दिया।
प्रशासन व पुलिस नियमों का पालन करने की अपील कर रही है लेकिन लोगों की लापरवाही कम नहीं हो रही। शहर अनलॉक होने के बाद समोसा व कचौरी की थडिय़ां, फास्ट फूड व अन्य दुकानों पर भीड़ पहले की तरह बढऩे लगी। यहां अब भीड़ जमा होने लगी है। नियम ताक में रखकर दुकानदार ग्राहकों को दुकान के बाहर ही खाने की अनुमति दे रहे हैं। शहर की होटलों में भी नियमों की पालना नहीं की जा रही है। कृषि उपज मण्डी की स्थिति भयावह है। वहां लोगों की भीड़ लगती है। लोग बिना मास्क के घूमते नजर आते है।
शहर के बापूनगर, आरसी व्यास कॉलोनी, चन्द्रशेखर आजादनगर, विजय सिंह पथिक नगर, सांगानेर आदि इलाकों में लगातार बड़ी संख्या में संक्रमित निकल रहे हैं। लापरवाही की हद सांझ ढलने के साथ कॉलोनियों में नजर आती है। युवा झुंड में खड़े होकर गप्पबाजी करते दिखते हैं। न कोई रोक और न ही टोक।
कभी था मॉडल
१९ मार्च को भीलवाड़ा कोरोना का एपिक सेंटर बना। भीलवाड़ा प्रशासन, पुलिस और आमजन के प्रयासों से संक्रमण पर नियंत्रण को लेकर देश-दुनिया में मॉडल बन गया था। अन्य शहरों में बड़ी संख्या में लोग पॉजिटिव आ रहे हैं। डेढ़ माह पहले तक भीलवाड़ा के पॉजिटिव के कम आंकड़े सुकून देने वाले थे लेकिन अगस्त से तेजी से संक्रमणफैला। मंगलवार को जिले ने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए। एक साथ १८३ रोगी सामने आए।
इस तरह की चूक
अनलॉक व सख्ती हटते ही लोग लापरवाह हो गए। बाजारों में भीड़ है। दो गज की दूरी का नियम कोई मान नहीं रहा। मास्क नहीं लगाए जा रहे हैं। एक दूसरे के सम्पर्क में आने से भी कोरोना का संख्या तेजी से बढ़ रही है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned