scriptfeed is expensive in bhilwara | अब पशुओं के निवाले पर महंगाई की मार | Patrika News

अब पशुओं के निवाले पर महंगाई की मार

खांखला महंगा, पशुधन के सामने चारे का संकट, डेढ़ से दो गुना बढ़े दाम

भीलवाड़ा

Published: April 18, 2022 02:22:28 am

भीलवाड़ा।

रोजमर्रा की आवश्यक चीजों के दामों में बढोतरी के बाद पशुओं के निवाले पर भी संकट है। खांखले के दाम चढ़े हैं। गत एक माह के सूखे चारे के थोक भाव करीब डेढ से दो गुना उछल गए। सामान्य दिनों में चारा थोक में 2 से 4 रुपए किलो तक मिल जाता था, वह 10 से 15 रुपए तक बिक गया। इसका सीधा असर पशुपालकों पर हुआ, जिन्हें दोहरी मार झेलनी पड़ रही है। एक तो सूखा-हरा चारा महंगा खरीदने को मजबूर हैं तो गर्मी आते ही पशुओं का दूध उत्पादन भी घट गया है।
गेहूं की बुबाई कम होने के साथ चारा व्यापारियों की डिमांड के कारण क्षेत्र में गेहूं के चारे के भाव 15 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए। इस कारण पशुपालकों के समक्ष संकट उत्पन्न हो गया है। दुधारू पशुओं,विशेषकर गाय व भैंस की कीमतों में गिरावट आई है। ऐसे में दूध से बनी चीजों के दामों में इजाफा होने के कारण लोगों की जेबों पर भार पड़ गया है। हालत यह है कि गेहूं कटाई से पूर्व ही गेहूं के चारे(खांखले) की कमी के चलते लोग खड़ी फसल को ही चारे के लिए खरीद रहे हैं। इस बार गेहूं की फसल कम होने के कारण दामों में बढ़ोतरी हुई है। गत वर्ष गेहूं की प्रति बीघा एक से दो हजार रही। वर्तमान में खांखले का भाव प्रति बीघा 8 से 10 हजार रुपए तक पहुंच गया है।
feed is expensive in bhilwara
feed is expensive in bhilwara,feed is expensive in bhilwara,feed is expensive in bhilwara

रकबा का कम होना भी वजह गत वर्ष किसानों ने सरसों की बुवाई अधिक की। इससे गेहं का रकबा घट गया। दूसरी और खरीफ बुवाई के बाद लगातार बरसात से क्षेत्र में फसलें खराब होने से चारे की समस्या बढ़ी। इससे चारे की समस्या बढ़ गई है। पिछले साल सरसों का भाव अधिक होने की वजह से इस वर्ष लोगों ने सरसों की फसल की बुवाई ज्यादा की थी। सरसों में तेजी के कारण सरसों का रकबा बढ़ गया । पशुओं के लिए चारे की फसल ज्वार, बाजरा, मक्का आदि का रकबा पिछले बरसों की तुलना में कम हुआ है । इस वजह से पर्याप्त मात्रा में चारा नहीं मिल रहा है और भाव आसमान छू रहे हैं।
दर-दर भटक रहे पशुपालक
क्षेत्र में चारे को बाहरी जिलों में परिवहन किए जाने के कारण यहां संकट उत्पन्न हो रहा है। पशुपालकों को महंगे दामों में चारा खरीद करना पड़ रहा है। बेसहारा पशु जंगलों में भटककर दम तोड़ रहे है। दूसरी तरफ पशुपालक चारे के लिए दर-दर भटकते नजर आ रहे है। इन दिनों चारे से ओवरलोड भरे वाहन धड़ल्ले से गुजर रहे हैं। खुलेआम निकलने वाले इन वाहनों पर कोईरोकटोक नहीं है। वाहनों में क्षमता से अधिक चारा भरकर बाहरी जिलों में ले जाया जा रहा है। इन ओवरलोड वाहनों से ङ्क्षसगल सड़क पर हादसे की भी आशंका है। इसे रोकने की जहमत न प्रशासन कर रहा है, न ही पुलिस।
बाहर जा रहा चारापशुपालकों के सामने संकट
राज्य का चार बाहरी राज्यों में परिवहन कर ले जाया जा रहा है। प्रशासन इसकी रोकथाम को लेकर उपाय नहीं कर रहा। इससे क्षेत्र में चारे का संकट उत्पन्न होने की आशंका है। भीषण गर्मी शुरू हो चुकी। गत वर्ष बारिश की कमी के कारण जिलेभर में अकाल की स्थिति उत्पन्न हो रही है। पशुओं के लिए चारे की समस्या हो जाने के कारण पशुपालकों के लिए मवेशी के लिए चारे की व्यवस्था करना मुश्किल हो रहा है। जिससे चारे के दाम बढऩे लगे है और पशुपालकों के लिए मवेशी को पालना मुश्किल हो गया है।

चारा महंगा होने सेपशुपालकों को नुकसान उठाना पड़ रहा है।पशुपालन अब घाटे का सौदा रह गया है। इसमें सिवाय नुकसान के कोई फायदा नहीं है।इसके बाद गेहूं की फसलकम होने से चारा कम हुआ है।
पशुओं को अब सूखे चारेकी जगह हरा चारा खिलाना पड़ रहा है।
-सत्यनारायण मांडल, पशुपालक, पंडेर
बाहरी राज्यों में जाने से रोकें
भीषण गर्मी का मौसम शुरू होते ही चारे की कमी को देखते सरकार को आदेश जारी कर बाहरी राज्यों में चारा परिवहन करने पर रोक लगानी चाहिए। बीते वर्षों पर नजर डालें तो आज तक ऐसी कार्रवाई नहीं की गई। इसमें बाहरी राज्यों में परिवहन किए जा रहे चारे को पकड़ा गया हो। ऐसे में धड़ल्ले से चारे का बाहरी राज्यों में महंगे दामों में परिवहन किया जा रहा है। चारे की पहले राज्य में पर्याप्त आपूर्ति हो इसके बाद चारा दूसरे राज्यों में आए।
-बद्रीलाल तेली, जिलाध्यक्ष, भारतीय किसान संघ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Drone Festival: दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत के सबसे बड़े ड्रोन फेस्टीवल का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदीपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलहार्दिक पटेल पर बड़ा आरोप, विधानसभा चुनाव का एक टिकट देने के लिए ली 23 लाख रुपए की रिश्वतमहाराष्ट्र के पालघर में 25 फीट गहरी खाई में गिरी बस, कई लोग हुए घायल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.