मिले खतरनाक रसायन, 33 क्विंटल मसाले जब्त

फैक्ट्री मालिक के खिलाफ थाने में एफआईआर दी

By: Suresh Jain

Published: 27 Oct 2020, 11:19 AM IST

सुरेश जैन
भीलवाड़ा।
राज्य सरकार के निर्देश पर सोमवार को शुरू हुए शुद्ध के लिए युद्ध अभियान के पहले दिन सोमवार को विशेष टीम ने मिलावटी मसाले तैयार करने वाली फैक्ट्री पकड़ी। यहां तैयार किए जा रहे मिर्ची, हल्दी और धनिया में खतरनाक रसायन मिलाए जा रहे थे, जिन्हें मानव के खाने के योग्य नहीं माना गया है। यहां ३२७५ किलोग्राम मसाले जब्त कर उनके नमूने अजमेर स्थित प्रयोगशाला में भेजे गए है, जबकि इनकी मोबाइल लेब में प्रारम्भिक जांच की गई तो उनके खतरनाक रसायन मिले पाए गए। फैक्ट्री मालिक के खिलाफ प्रतापनगर थाने में शिकायत दी गई है।
सूत्रों के अनुसार खुफिया सूचना के आधार पर जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम नकाते ने उपखण्ड अधिकारी रिया केजरीवाल, सीएमएचओ डॉ. मुश्ताक खान, तहसीलदार दिनेश कुमार, रसद विभाग के प्रवर्तन अधिकारी ज्ञानचंद, बाट व माप निरीक्षक महेन्द्र सिंह, खाद्य सुरक्षा अधिकारी देवेन्द्र सिंह राणावत, भीलवाडा डेयरी के रामस्वरुप पालीवाल व पुलिस उप अधीक्षक रामचन्द्र चौधरी की टीम गठित की थी। इस टीम ने गांधीनगर स्थित मिर्च मण्डी में दिनेश जागेटिया की मसाले की फैक्ट्री की जांच की। टीम को प्रथम तल पर विभिन्न प्रकार के रसायन मिलाकर तैयार किए गए मिलावटी मसाले पड़े मिले। इनमें मिर्च, हल्दी, व धनिया पाउडर का स्टॉक मिला। मौके पर कुल 54 कट्टों में 2400 किलोग्राम मिर्च, 12 कट्टों में 600 किलोग्राम हल्दी पाउडर व 6 कट्टों में 275 किलोग्राम धनिया पाउडर भरा था। मौके से इन तीनों मसालों के नमूने लेकर मोबाईल लेब में जांच की गई तो सभी में ऐसे रसायन मिले, जो आमजन के स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। मौके पर ही मिलावटी मसाले बनाने के लिए विभिन्न रसायन पॉलीसील रेड 5 किलो व ऑयल रेड 9 किलो 400 ग्राम, ओरेंज एचसी 15 किलो, ऑयल ओरेंज 21 किलो 400 ग्राम, यलो कलर 800 ग्राम व रसायनों की की खाली पीपीयां मिली। इन सभी को जब्त करते हुए तीनों मसालों के अलग-अलग बैच के ६ नमूने लिए। टीम ने फैक्ट्री को सीज कर दिया।
अभियान के संयोजक व एसीईओ एन.के. राजोरा ने बताया कि प्रारंभिक जांच में असुरक्षित पाए गए मसालों की अग्रिम जांच के लिए नमूने लिए गए है। प्रतापनगर थाने में फर्म मालिक के खिलाफ एफआईआर दी गई है। मौके पर पाए गए कुल 3275 किलोग्राम मिलावटी मसालों को जब्त कर सील कर दिया गया। सभी नमूनों को जांच के लिए अजमेर प्रयोगशाला में भिजवाया गया है।
नीचे एक नंबर ऊपर दो नम्बर का काम
जांच टीम के एक सदस्य के अनुसार फैक्ट्री में निचले तल पर तो सही माल तैयार किय जा रहा था, लेकिन ऊपर की मंजिल में मिलावटी माल तैयार किया जाता है। इस मंजिल पर जाने का रास्ता भी अलग बना हुआ है। मिलावटी माल तैयार कर कट्टों में भरकर बाहर भेजा जाता है।
नौकर को मालिक बताया
टीम के सदस्यों के अनुसार कार्रवाई के दौरान दिनेश कुमार जागेटिया अपने एक नौकर को ही इस फैक्ट्री का मालिक बताता रहा। उसने अपने आप को इस फैक्ट्री के गोदाम का मालिक बताते हुए कहा कि वह तो केवल गोदाम का किराया लेता है, लेकिन जब इसके कागजात देखे तो दस्तावेज में महेश कुमार दिनेश कुमार जागेटिया के नाम से फर्म निकली।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned