scriptआषाढ़ी गुप्त नवरात्र 6 से घोड़े पर सवार होकर आएगी मातारानी | गुप्त नवरात्र की शुरूआत 6 जलाई से होगी | Patrika News
भीलवाड़ा

आषाढ़ी गुप्त नवरात्र 6 से घोड़े पर सवार होकर आएगी मातारानी

गुप्त नवरात्र की शुरूआत 6 जलाई से होगी

भीलवाड़ाJun 29, 2024 / 11:20 am

Suresh Jain

गुप्त नवरात्र की शुरूआत 6 जलाई से होगी

गुप्त नवरात्र की शुरूआत 6 जलाई से होगी

भीलवाड़ा गुप्त नवरात्र की शुरूआत 6 जलाई से होगी। गुप्त नवरात्र के दौरान एक तिथि में वृद्धि होने से गुप्त नवरात्र का त्योहार 10 दिनों का होगा। इस दौरान महाविद्याओं की पूजा की जाती है। तंत्र साधकों के लिए यह समय बहुत महत्वपूर्ण होता है। हालांकि गुप्त नवरात्र के दिन हर भक्त माता की आराधना करके लाभ प्राप्त कर सकता है। गुप्त नवरात्र के दौरान माता की अलग-अलग सवारियां होती हैं। लेकिन जब नवरात्र मंगलवार या शनिवार के दिन शुरू होती है तो माता घोड़े पर सवार होकर आती हैं। यानि 6 जुलाई से शुरू होने वाली नवरात्र शनिवार होने की वजह से माता की सवारी घोड़ा ही होगा। नवरात्र के दौरान माता का घोड़े पर सवार होकर आना शुभ नहीं माना जाता। इसकी वजह से देश-दुनिया में कई ऐसी घटनाएं हो सकती हैं, जिनका बुरा असर हर किसी पर पड़ सकता है। इस दौरान दुनिया में शीत युद्ध जैसे हालात बन सकते हैं। कुछ देशों के बीच जंग भी छिड़ सकती है। राजनीतिक रूप से भी माता का घोड़े पर सवार होकर आना अच्छा नहीं माना जाता। पंडित अशोक व्यास ने बताया कि भारत के दृष्टिकोण से देखा जाए तो घोडे पर सवार होकर माता का आना, सरकार और जनता के बीच कुछ मतभेद पैदा करेगा। महंगाई और बेरोजगारी की वजह से जनता आक्रोशित हो सकती है। हालांकि उन लोगों के लिए यह समय अच्छा रहेगा जो गतिशीलता से जुड़े कार्य करते हैं।
व्यास ने बताया कि गुप्त नवरात्र के दौरान माता की पूजा करने से भक्तों को अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं। धार्मिक दृष्टि से गुप्त नवरात्र का बड़ा महत्व है। इस दौरान दस महाविद्याओं की पूजा की जाती है। माना जाता है कि महाविद्याओं की पूजा करने से धन-धान्य और समृद्धि की प्राप्ति तो होती ही है, साथ ही ज्ञान में भी वृद्धि होती है।
  • घट स्थापना महूर्त
  • 6 जुलाई को सुबह 7.37 से 9:19 तक शुभ वेला
  • अभिजीत दिन में 12.15 से 1.10 तक श्रेष्ठ रहेगा

Hindi News/ Bhilwara / आषाढ़ी गुप्त नवरात्र 6 से घोड़े पर सवार होकर आएगी मातारानी

ट्रेंडिंग वीडियो