ढाई मीटर जमीन में दबी गैस पाइप आने लगी नजर

ढाई मीटर जमीन में दबी गैस पाइप आने लगी नजर
Gas pipes buried in two and a half meters of land started appearing in bhilwara

Suresh Jain | Publish: Oct, 12 2019 05:02:03 AM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

गैल व अडानी ग्रुप के बीच एमओयू, अगले माह गैस आपूर्ति की तैयारी

भीलवाड़ा।
Gale India's Gas Pipeline कांदा गांव से चित्तौडग़ढ़ जा रही गैस पाइप लाइन बनास नदी में ढाई मीटर जमीन में दबाई गई थी। अब अवैध खनन के चलते यह पाइप लाइन बाहर नजर आने लगी है। इस पाइप लाइन के माध्यम से अगले माह तक भीलवाड़ा व चित्तौडग़ढ़ में गैस की आपूर्ति की जानी है। पाइप लाइन उघडऩे से आपूर्ति के दौरान खतरा बढ़ सकता है। एेसे में गैल इंडिया कम्पनी के लिए चिन्ता का कारण बनी हुई है।

Gale India's Gas Pipeline भीलवाड़ा के निकट कांदा गांव से चित्तौडग़ढ़ जा रही गैस पाइप लाइन हासियास के निकट बनास नदी से गुजर रही है। पाइप लाइन से अगले माह हिन्दुस्तान जिंक को गैस आपूर्ति की योजना है। इसे लेकर गैल व अडानी ग्रुप के बीच एमओयू हो चुका है। कुछ दिनों पूर्व गैल इंडिया लिमिटेड के अधिकारियों ने पाइप लाइन का सर्वे किया था। तब जानकारी में आया कि बनास नदी में माफिया ने पाइप लाइन के आस-पास से बजरी निकाल ली। पाइप लाइन का कोटा व विजयपुर से भी गैल के अधिकारी निरीक्षण कर चुके हैं। उनका कहना था कि इस स्थिति में गैस की आपूर्ति शुरू होने पर कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है।

१५ से २० मीटर दबाएंगे पाइप लाइन
अब गैस आपूर्ति से पहले पाइप लाइन एलडीडी के माध्यम से १५ से २० मीटर जमीन के नीचे डाली जाएगा, ताकि बजरी दोहन के दौरान किसी तरह के नुकसान से बचा जा सके। इसकी स्वीकृति भी कोटा से आए अधिकारियों ने दे दी है।
अशोककुमार खटीक, वरिष्ठ प्रबन्धक (पाइप लाइन), गैल इंडिया लिमिटेड

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned