किसानों को दी बड़ी राहत

स्वघोषणा से बेच सकेंगे सरसों व चना

By: Suresh Jain

Published: 02 Apr 2021, 09:27 AM IST

भीलवाड़ा।
समर्थन मूल्य पर 1 अप्रेल से शुरू हुई सरसों एवं चना की खरीद के लिए किसानों को बड़ी राहत दी है। पटवारियों की हड़ताल के कारण प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में किसानों को गिरदावरी नहीं मिल पा रही है। जिन क्षेत्रों में पटवारियों की ओर से गिरदावरी जारी नहीं की जा रही है वहां किसान अब स्वयं के घोषणा पत्र के आधार पर उपज बेचान के लिए ऑनलाइन पंजीयन करा सकेंगे। सहकारिता विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। यदि किसी किसान की ओर से फर्जी घोषणा पत्र के आधार पर पंजीयन कराया जाएगा तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। पटवारियों की हड़ताल समाप्त होने पर या राजफेड क्रय केन्द्र द्वारा मांगे जाने पर मूल गिरदावरी किसान को प्रस्तुत करनी होगी। यह अस्थाई व्यवस्था पटवारियों की हड़ताल की अवधि तक ही मान्य होगी। पटवारियों की हड़ताल समाप्त होने अथवा राज्य सरकार के द्वारा अन्य कोई व्यवस्था लागू करने की स्थिति में स्वघोषणा शपथ पत्र व्यवस्था निष्प्रभावी होगी।
राज्य में सरसों एवं चने की समर्थन मूल्य पर खरीद के लिए 25 मार्च से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू किया गया है। 1 अप्रेल से सरसों के २८ तथा चने के २८ केन्द्रों पर खरीद होगी। किसानों से समर्थन मूल्य पर चना की 6 लाख 14 हजार 900 मीट्रिक टन तथा सरसों की 12 लाख 22 हजार 775 मीट्रिक टन की खरीद की जाएगी। किसानों की सुविधा के लिए सरसों एवं चने क्रय-विक्रय सहकारी समितियों पर तथा ग्राम सेवा सहकारी समितियों पर खरीद केन्द्र खोले गए हैं। प्रति किसान से अधिकतम 25 क्विंटल की खरीद की जाएगी। किसान की कृषि भूमि जिस तहसील में होगी उसी तहसील क्षेत्र के खरीद केन्द्र का चयन रजिस्ट्रेशन के दौरान कर सकेगा।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned