हजारों पशुओं को दिलवाया अभयदान

जीवदया तथा गरीबों के मसीहा थे गुरू मरूधर केसरी-सुकनमुनि

By: Suresh Jain

Published: 02 Aug 2020, 08:38 PM IST

भीलवाड़ा।
जन संत व संघ संगठन के सच्छे प्रहरी थे मरूधर केसरी मिश्रीमल। रविवार को उनकी 130 वीं जंयती पर आयोजित समारोह में शास्त्रीनगर स्थित अहिंसा भवन में को श्रावकों को सम्बोधित करते हुए सुकनमुनि ने कहा की गुरू मिश्रीमल महाराज गरीबों के मसीहा तथा दया के देवता थे। परमार्थ के रूप मे अपने जीवन काल मे औषघालय, विद्यालय, गौशालाओं का निर्माण करवाया। पशु बली बंद करवाई। गुरू मरूधर केसरी का वरहस्त मिलने वालो का जीवन का बेड़ा पार हो सकता है। जन्मोत्सव कार्यक्रम में महेश मुनि, हरीश मुनि, मुकेश मुनि, सचिन मुनि, अखिलेश मुनि व डॉक्टर वरूण मुनि तथा शांतिभवन से पधारी मैनाकंवर, साध्वी किरण आदि ने गुणगान करते हुए कहा कि महापुरुषों का जितना गुणगान करें वह कम होगा। गुणगान करने से मनुष्य को कर्मो की निर्जरा तथा मानव शरीर से मुक्ति मिल सकती है। अहिंसा भवन संघ अध्यक्ष अशोक पोखरणा ने बताया की जन्मोत्सव दरबार का लोकार्पण शोभालाल, हेमन्त कुमार बाबेल ने किया। गायिका चुनौती, आंकाक्षा नाहर ने भजन के माध्यम भाव रखे। संरक्षक हेमन्त आंचलिया ने बताया की समारोह की अध्यक्षता नवरतनमल बम्ब ने की। पूर्व सभापति मंजू पोखरणा, शांतिभवन अध्यक्ष राजेन्द्र चीपड़, मंत्री सुरेंद्र चौधरी, कंवरलाल सूरिया, महेन्द्र छाजेड़, मनोहरलाल सूरिया, अमरसिंह डुंगरवाल, भूप्रेन्द्र पंगारिया, ज्ञानेन्द्र सिंह चौधरी, मुकेश डांगी, शंति लाल खमेसरा, कमला चौधरी आदि का जैन कॉन्फ्रेंस प्रांतिया अध्यक्ष पुष्पा गौखरू व महामंत्री नीता बाबेल ने अभिनन्दन किया। संचालन मंत्री रिखबचंद पीपाड़ा ने किया। तेलातप की तपस्या करने वालो भाई बहनो का पुष्पा गौखरू व नीताबाबेल ने सम्मानित किया। मीडिया प्रभारी सुनिल चपलोत बताया की मरूधर केसरी महाराज की जयन्ती के अवसर पर सुकनमुनि की प्रेरणा से जीवदया प्रेमी की ओर से अपने क्षेत्रो में देशभर से 1500 से अधिक पशुओं को अभयदान दिरलवाकर जोधपुर भेजा गया।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned