scriptHow is this government condition, waiting for promotion for 20 year | How is this government condition यह कैसे सरकारी हाल, बीस साल से कर रहे पदोन्नति का इंतजार | Patrika News

How is this government condition यह कैसे सरकारी हाल, बीस साल से कर रहे पदोन्नति का इंतजार

How is this government condition, waiting for promotion for 20 year सरकारी स्कूलों में पुस्तकालय खुले हैए लेकिन बजट के अभाव में यहां की व्यवस्था का काया पलट नहीं हो सका। नवीनतम पुस्तकों व पत्रिकाओं का अभाव हैए वही ई.पुस्तकालय विद्यार्थियों से कोसो दूर है। इतना ही नहीं पुस्तकालयध्यक्ष भी पदोन्नति नहीं मिलने से निराश है।

भीलवाड़ा

Updated: March 21, 2022 01:08:03 pm


नरेन्द्र वर्मा. भीलवाड़ा। सरकारी स्कूलों में पुस्तकालय खुले हैए लेकिन बजट के अभाव में यहां की व्यवस्था का काया पलट नहीं हो सका। नवीनतम पुस्तकों व पत्रिकाओं का अभाव हैए वही ई.पुस्तकालय विद्यार्थियों से कोसो दूर है। इतना ही नहीं पुस्तकालयध्यक्ष भी पदोन्नति नहीं मिलने से निराश है। यह पुस्तकालयध्यक्ष भी दो दशक से पदोन्नति का इंतजार कर रहे हैं।
प्रदेश में राज्य सरकार ने शिक्षा विभाग के अधीन माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्तर के राजकीय स्कूलों में पुस्ताकालय खोल रखे हैं। लेकिन बढ़ते डिजिटल स्वरूप तकनीकी ज्ञान के सामने यहां की व्यवस्थाएं बौनी साबित हो रही है। जिले के सरकारी पुस्तकालयों की हालत भी खास ठीक नहीं है। बजट समय पर नहीं मिलने से अधिकांश पुस्तकालयों में पुराने संस्करण ही है। नई पुस्तिकाएंए पुस्तकें व पत्र पत्रिकाओं का यहां अभाव है। दूरसंचार सेवाएं भी यहां जुगाड़ के सहारे होने से भी विद्यार्थियों को ई.पुस्तकालय की सुविधाएं कागजों में ही सिमटी हुई है।
How is this government condition, waiting for promotion for twenty years
How is this government condition, waiting for promotion for twenty years
पदोन्नति की राह मुश्किल
पुस्तकालयों की व्यवस्था संभाले रहे पुस्तकालयध्यक्ष भी सरकार के रवैय्ये से खुश नहीं है। उनकी पीड़ा है कि राजस्थान में विगत 20 वर्षों से सेवानियमों मेें तकनीकी खामी बताकर पुस्तकालयध्यक्षों की पदोन्नति की प्रक्रिया को सरकार गति नहीं दे पा रही है।
आधे स्कूलों में पद ही स्वीकृत नहीं
प्रदेश में कुल 11562 उच्च माध्यमिक विद्यालय है तथा 3598 माध्यमिक विद्यालय हैए कुल 15160 विद्यालय हैए जिनमें से 4334 विद्यालय में ही पुस्तकालय अध्यक्ष पद स्वीकृत है और 10826 विद्यालयों में पुस्तकालय अध्यक्ष के पद स्वीकृत ही नहीं है। प्रदेश के सभी विद्यालयो में नामांकन के आधार पर प्रथमए द्वितीय व तृतीय श्रेणी पुस्तकालयध्यक्षों के पद सृजित होने चाहिए। पदोन्नति नहीं होने व नए पद सृजित नही होने से बेरोजगारों में रोष व्याप्त है। प्रदेश में फस्र्ट ग्रेड के सभी 41 पद खाली है। जबकि सैंकड ग्रेड में 1225 में से 918 व थर्ड ग्रेड में 43324 में से 1762पद खाली है। इधरए भीलवाड़ा जिले में सैंकड ग्रेड में 35 व थर्ड ग्रेड में 49 पद खाली है।
पैटर्न सुधरे तो हालात बदले
प्रदेश में समय.समय पर स्टाफ ीग पैटर्न के अनुसार नवीन पद सृजित किए जाते रहे हैं जबकि सेवानियमों में तकनीकी खामी के कारण पुस्तकालयध्यक्षों के नवीन पद सृजित नहीं किए गए है। राजेश पुरोहित बताते है कि राज्य सरकार की बहुआयामी योजना महात्मा गाधी अंग्रेजी विद्यालय में पुस्तकालध्यक्ष का पद द्वितीय श्रेणी का सृजित किया जाना चाहिए उसके स्थान पर तृतीय श्रेणी का पद सृजित किया जा रहा है। How is this government condition, waiting for promotion for twenty years
कई पुस्तकालयों पर लटके है ताले
ब्लाकएनोडल व पीईईओ स्तर के विद्यालयों द्वारा निशुल्क पाठ्यपुस्तकों का वितरण का कार्य सपांदित किया जाता है। ऐसे विद्यालयो में पुस्तकालयध्यक्षो के पद सृजित होना आवश्यक है। पंचायत समिति स्तर पर भाषा एवं पुस्तकालय विभाग द्वारा सार्वजनिक पंचायत समिति पुस्तकालय सचांलित है लेकिन अलग से पद स्वीकृत नहीं करके विद्यालय पुस्तकालयध्यक्ष को ही इसका चार्ज दे रखा है परन्तु वहां पर भी कई स्थानों पर पद रिक्त होने से दोनों पुस्तकालय बंद पड़े है।
वरिष्ठता सूची ही जारी नहीं
वर्ष 2012 में सेवानियमों मे संशोधन के लिए फाइल तैयार कर सरकार ने प्रक्रिया प्रारंभ की थी। जिसके फ लस्वरूप राज्य सरकार ने अगस्त 2021 में सेवा नियमों में संशोधन कर सेवा नियम 2021 बना दिए हैं लेकिन अब तक स्कूल शिक्षा परिषद जयपुर और शिक्षा निदेशालय स्तर से विभिन्न आदेश जारी होने के बावजूद भी कुछेक जिलों को छोड़ कर अधिकांश जिलों द्वारा वरिष्ठता सूची तक जारी नही की गई है। जिससे पुस्तकालयाध्यक्षों की पदोन्नति नही हो रही है। कई पुस्तकालयाध्यक्ष सेवानिवृत हो चुके हैं। और पुस्तकालयाध्यक्ष के पद रिक्त होने व पदोन्नति नही होने से पुस्तकालयध्यक्षों में रोष है ।
अरविन्द जोशी, राजस्थान पुस्तकालय सेवा परिषद

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.