Sand Mafia in Rajasthan: बजरी का अवैध कारोबार: माफिया कर रहे हैं मोटी कमाई, बनास में बचे पत्थर और खाई

Sand Mafia in Rajasthan: बजरी का अवैध कारोबार: माफिया कर रहे हैं मोटी कमाई, बनास में बचे पत्थर और खाई
Illegal trade of gravel in bhilwara

Durgeshwari Sharma | Updated: 14 Jun 2019, 04:55:39 PM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

बजरी माफिया नदी में दिन-रात मशीनों से खनन करने से बनास नदी कर्इ् मीटर तक जगह — जगह खाइयो में तब्दील हो चुकी है

काछोला।

मेवाड़ की गंगा कहलाने वाली बनास नदी में बजरी माफिया सक्रिय होकर एक वर्ष अवैध खनन कर किया जा रहा है, इससे नदी दुर्दशा का शिकार हो चुकी है बजरी माफिया नदी में दिन-रात मशीनों से खनन करने से बनास नदी कर्इ् मीटर तक जगह — जगह खाइयो में तब्दील हो चुकी है तो कई जगह पत्थर ही पत्थर दिखाई दे रहे हैं। बजरी माफिया रेत को नदी के अंदर ही ट्रैक्टर में बजरी भरकर कोटा झालावाड़ बूंदी आदि जगहों में बेचकर मुनाफा कमा रहे हैं। दूसरी ओर, अवैध खनन के खिलाफ पुलिस प्रशासन व खनिज विभाग की अनदेखी के चलते इलाके के ग्रामीणों में रोष है।

जीवनदायिनी बनास नदी की दुर्दशा

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की सरेआम आवहेलना करते हुए जीवनदायिनी बनास नदी की बजरी माफियाओं ने बेखौफ होकर नदी की बजरी का अवैध दोहन कर स्वरूप बिगाड़ दिया। गर्मी के मौसम में नदी के तट पर खीरा ककड़ी व सब्जियों की पैदावार कर अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले परिवारों के सामने आज संकट के बादल मण्डराने लगे हैं। बजरी पर प्रशासन अंकुश लगाने में बेअसर साबित हुआ, जिसका खामियाजा आम जनता एवं नदी से जुड़े ग्रामीणों को भुगतना को बाध्य होना पड़ रहा है।

बनास बचाओ समिति ने भी की शिकायत

बजरी के अवैध दोहन व बेचने एवं दिन — रात रलायता से चेनपुरा तक सरकारी जमीन पर बजरी के अवैध स्टॉक लगाने के खिलाफ बनास बचाओ समिति के संयोजक महावीर दाधीच ने बताया कि बनास के बिगड़ते अस्तित्व को लेकर हमने लोकायुक्त जयपुर शिकायत की परन्तु स्थानीय पुलिस एवं ब्लॉक स्तर के अधिकारियों की अनदेखी से नदी का निरन्तर अस्तित्व बिगड़ता गया जिम्मेदारों द्वारा ध्यान नहीं देने से हमें निराशा मिली। वह नदी में अवैध रूप से किए जा रहे बजरी खनन पर अंकुश नहीं लगा।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned