भीलवाड़ा में बहुमत के दावों पर निर्दलियों का राज


भीलवाड़ा नगरीय निकाय चुनाव में गुरुवार को नामांकन पत्रों की वापसी से सभापति व अध्यक्ष पदों पर मुकाबले की स्थिति स्पष्ट हो गई है। जिले में गंगापुर व जहाजपुर में बड़ा उलटफेर भी हुआ है। भीलवाड़ा नगर परिषद , शाहपुरा, गुलाबपुरा व मांडलगढ़ में भाजपा व कांग्रेस में सीधी टक्कर तय हो गई है। आसीन्द में अध्यक्ष पद को लेकर मुकाबला दिलचस्प हो गया

By: Narendra Kumar Verma

Published: 05 Feb 2021, 12:17 PM IST


भीलवाड़ा। नगरीय निकाय चुनाव में गुरुवार को नामांकन पत्रों की वापसी से सभापति व अध्यक्ष पदों पर मुकाबले की स्थिति स्पष्ट हो गई है। जिले में गंगापुर व जहाजपुर में बड़ा उलटफेर भी हुआ है। यहां कांग्रेस के दोनों ही प्रत्याशियों ने नाम वापस ले लिए। ऐसे में मुकाबला भाजपा प्रत्याशियों व निर्दलीय प्रत्याशियों के बीच रह गया है। इधर, भीलवाड़ा नगर परिषद चुनाव में कांग्रेस के बागी प्रत्याशी संजय पेड़ीवाल के नाम वापस लेने से भाजपा व कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला तय हो गया है। कुछेक निर्दलीय पार्षदों के नामांकन वापस लेने आसीन्द में अध्यक्ष पद को लेकर मुकाबला दिलचस्प हो गया। शाहपुरा, गुलाबपुरा व मांडलगढ़ में भाजपा व कांग्रेस में सीधी टक्कर तय हो गई है। दूसरी तरफ बाड़ेबंदी के बीच निकायों में बहुमत हांसिल करते हुए भाजपा व कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है। पार्षदों की खरीद फरोख्त के आरोप प्रत्यारोप भी सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे है। सभापति व अध्यक्ष पदों के चुनाव ७ फरवरी को होंगे।

भीलवाड़ा नगर परिषद के सभापति चुनाव को लेकर गुरुवार को कांग्रेस का दिन मशक्कत का रहा। यहां पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी ओमप्रकाश नाराणीवाल के सामने हाईब्रिड नियम से चुनाव मैदान में उतरे पार्टी के ही जिला महामंत्री संजय पेडीवाल को मनाने में प्रदेश से लेकर जिले के नेता मनाने में लगे रहे। प्रदेश नेताओं ने जयपुर से मोबाइल के जरिए पेड़ीवाल से समझाइश की। जिला पदाधिकारियों ने बुधवार को लंबी बातचीत के बाद फिर से गुरुवार को समझाइश की, यह प्रयास बाद में रंग लाए।

दस मिनट पहले पहुंचे पेड़ीवाल

नामांकन पत्र वापसी से दस मिनट पहले पेड़ीवाल जिलाध्यक्ष रामपाल शर्मा, जिला महामंत्री महेश सोनी, शहर चुनाव प्रभारी अनिल डांगी के साथ नगर परिषद पहुंचे और नामांकन पत्र वापस लेने का प्रार्थना पत्र रिटर्निग अधिकारी वंदना खोरवाल के समक्ष पेश किया। इस दौरान कांग्रेस प्रत्याशी ओम प्रकाश नाराणीवाल व शिवराम खटीक भी मौजूद थे। पेड़ीवाल की नाम वापसी के साथ ही अब सभापति के लिए भाजपा के राकेश पाठक और कांग्रेस के ओमप्रकाश नराणीवाल के बीच सीधा मुकाबला तय हो गया है।

प्रदेश का था आग्रह
पेडीवाल ने मीडिया से कहा कि वह कांग्रेस के निष्ठावान कार्यकर्ता है और कांग्रेस नगर परिषद में बोर्ड बनाने जा रही है। प्रदेश नेतृत्व ने कांग्रेस हित में नामांकन पत्र वापस लेने का आग्रह किया था और बिना किसी दबाव के नाम वापस लिया।


बाड़ेबंदी से जीत के दावे

सभापति चुनाव की बाड़ेबंदी से भाजपा व कांग्रेस के प्रत्याशी गुजरात व राजस्थान के विभिन्न हिस्सों की सैर कर रहे है। सोशल मीडिया पर इनके फोटो व संदेश वायरल हो रहे है। कांग्रेस की बाड़ेबंदी से ही नगर परिषद की पूर्व प्रतिपक्ष नेता समदु देवी ने कांग्रेस का ही बोर्ड बनने का दावा किया है, वही कुछेक निर्दलियों ने भाजपा के साथ होने का दावा किया है। बाड़ेबंदी से भाजपा पार्षदों के संदेश व फोटो वायरल होने पर उनके मोबाइल बंद करा दिए गए।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned