जैन अनजान में बन रहे मांसाहार

सिद्धचक्र विधान पूजा का पांचवा दिन

By: Suresh Jain

Published: 07 Mar 2020, 07:37 PM IST

भीलवाड़ा।
Siddhachakra Vidhan Puja सिद्धचक्र का अर्थ है सिद्धों का समूह। तीनलोक के अग्रभाग पर अनन्तानन्त सिद्ध विराजमान रहते हैं। उन सबको सिद्धचक्र विधान के माध्यम से नमन किया गया है। अष्टान्हिका पर्व में प्राय: सभी जगह सिद्धचक्र विधानों के आयोजन देखे जाते हैं क्योंकि मैना सुन्दरी ने अष्टान्हिका में इसकी विधिवत आराधना करके अपने पति एवं सात सौ कुष्ठियों का कुष्ठ रोग दूर किया था। सिद्धचक्र की आराधना से सम्यग्दर्शन की प्राप्ति होती है। Siddhachakra Vidhan Puja सम्यग्दर्शन से शुद्ध मनुष्य नारकी, तिर्यंच, नपुंसक, स्त्रीपर्याय, नीचकुल, विकृतांग, अल्पायु और दरिद्रता को नहीं प्राप्त होता है। यह बात प्रतिष्?ठाचार्य आकाश ने आरके कॉलोनी में स्थित आदिनाथ दिगम्?बर जैन मंदिर में सिद्धचक्र विधान की पूजा के पांचवे दिन कही।
उन्होंने कहाकि आज हमारे देश पर पश्चिमी सभ्यता की छाप पड़ती जा रही है। इसीलिए अनेक विकृतियां, कुरीतियां, फैशनपरस्ती बढ़ती जा रही है। जिसका दुष्परिणाम यह है कि आप शाकाहारी होकर भी अनजान में मांसाहार कर रहे हैं। अपने जीवन को आधुनिकता का खिताब देकर हिंसा को बढ़ावा दे रहे हैं। यदि हमारे सभी जैन बंधु महिलाएं अपने क्षणिक आनन्द से मुख मोड़कर शैम्पू, लिपिस्टिक, नेलपॉलिश, तरह-तरह के साबुन, मंजन आदि प्रयोग करने का त्याग कर दें तो बड़ी मात्रा में निरीह पशुओं की हिंसा बच सकती है। अपने खान-पान, आचार-विचार, आत्मशुद्धि से निर्णय कर सकते हैं कि आपको सम्यग्दर्शन है या नहीं। व्यवहार सम्यग्दर्शन का स्थूल रूप में यही थर्मामीटर है।
उपाध्यक्ष महेन्द्र सेठी ने बताया कि सुबह महेन्द्र बाकलीवाल ने आदिनाथ भगवान की शांतिधारा की। देवशास्त्रगुरु एवं नन्दीश्वर द्वीप पूजा के बाद सिद्ध परमेष्ठी के वस्तु धर्म, अगुरुलघुत्व, चैतनत्व, अव्यावाद, स्वसंवेदन, स्वरुप ध्यान आदि 128 गुणों की पूजा कर मण्डल पर श्रीफल अर्पित किए गए। पूजा के दौरान श्रावक-श्राविकाओं ने मेरे घर के आगे तेरा मंदिर बन जाए, हर जन्म में बाबा तेरा साथ चाहिए आदि भजनों पर भक्ति नृत्य सहित पूजन की।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned