शराब के पव्वे ने पुलिस को चोरों तक पहुंचाया

मेवाड़ के प्रसिद्ध जगदीश भगवान मंदिर में पांच दिन पूर्व पुजारी व उसके भतीजे को बंधक बना कर लाखों की लागत के भगवान के श्रृंगारित जेवरातों की चोरी की वारदात का पुलिस ने खुलासा किया। पुलिस ने प्रकरण में दो जनों को गिरफ्तार किया, वारदात के खुलासे जगदीश गांव में बुधवार शाम को जश्र का माहौल था।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 04 Mar 2021, 12:01 PM IST


भीलवाड़ा। मेवाड़ के प्रसिद्ध जगदीश भगवान मंदिर में पांच दिन पूर्व पुजारी व उसके भतीजे को बंधक बना कर लाखों की लागत के भगवान के श्रृंगारित जेवरातों की चोरी की वारदात का पुलिस ने खुलासा किया। पुलिस ने प्रकरण में दो जनों को गिरफ्तार किया, वही एक बाल अपचारी को निरूद्ध किया। महज पांच दिन के भीतर चोरी की बड़ी वारदात के खुलासे जगदीश गांव में बुधवार शाम को जश्र का माहौल था।

पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा ने बताया कि करेड़ा उपखण्ड क्षेत्र के उमरी ग्राम पंचायत के जगदीश ग्राम स्थित जगदीश मंदिर में गत २६ फरवरी की मध्य रात्रि को चोरी की वारदात हुई। वारदात के खुलासे के लिए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक चंचल मिश्रा के निर्देशन में पुलिस उपाधीक्षक गोपीचन्द मीणा की अगुवाई में विशेष टीम का गठन किया । इसमें थाना प्रभारी प्रेमसिंह, इन्द्रजीतसिंह,रज्जाक मोहम्मद, संजीव, मणीराम,राधेश्याम,आशीष, सत्यनारायण, दीपक, प्रदीप, कमलेश, सत्यनारायण को शामिल किया गया।

टीम वर्क से जुड़ी कड़ी

पुलिस अधीक्षक शर्मा ने बताया कि विशेष टीम ने घटना स्थल से बारीकी से मुआयना किया। एफएसएल टीम ने मौके से साक्ष्य उठाए। साइबर सेल ने घटना के दौरान क्षेत्र में हुई कॉल की जानकारी की। मंदिर क्षेत्र के अलावा अन्य प्रमुख स्थलों पर लगे सीसी कैमरों के फुटेज देखे। मंदिर में चोरी व लूट की वारदातों में लिप्त अपराधियों व संदिग्ध लोगों का पुराना पुलिस रिकार्ड खंगाला गया। संदेह के आधार पर कुछ लोगों को हिरासत में ले कर पूछताछ की गई। पुलिस को अनुसंधान के दौरान वारदात में लिप्त लोगों के खिलाफ पुख्ता सूचना मिली।

पव्वे ने दिए अहम सुराग

उन्होंने बताया कि घटना स्थल में शराब के पव्वे मिले, इन्ही पव्वों की मार्का के आधार पर शराब की दुकान तक पहुंचे। राजसमंद जिले में शातिर अपराधियों का आशाराम का मंदिरों में चोरी का रिकार्ड मिला। इसी आधार पर पुलिस टीम ने पाली जिले में वांछित अभियुक्तों के ठिकानों पर दबिश दी। यहां से पाली जिले के नाना थाना क्षेत्र के कोलवाव पाटरिया की ढाणी निवासी आशाराम पुत्र लालराम गरासिया व कालाराम को गिरफ्तार किया गया। इसी मामले में एक बाल अपचारी को भी निरुद्ध किया। कड़ी पूछताछ में तीनों टूट गए और मंदिर में चोरी की वारदात को अंजाम देना कबूल किया। तीनों ही अपराधी प्रदेश में कई मंदिरों में चोरी व लूट की वारदात को पूर्व में अंजाम दे चुके है। मुख्य आरोपित आसाराम के खिलाफ प्रदेश के विभिन्न जिलों में बीस से अधिक चोरी के मामले दर्ज है और कईयों में वांछित भी है।

बाइक से आए और जंगल गए
पूछताछ में सामने आया कि आरोपित आशाराम ने ही वारदात को अंजाम देने की योजना बनाई। इसके लिए तीनों ने मंदिर व आसपास की रैकी, कभी साथ मैं तो कभी अलग-अलग की। वारदात को अंजाम देने के लिए किस रास्ते से आने और वापस किस रास्ते से जाने और लूट कर लाया माल कहां, छिपाना है, यह पहले से तय कर लिया। वारदात के लिए तीनों ही एक बाइक से जगदीश मंदिर पहुंचे। वारदात के बाद आरोपितों ने सूनसान व कच्चा रास्ता जाने के लिए चुना, कुछ जेवरात को उन्होंने जंगल में ही एक बोरे में छिपा दिया। शर्मा ने बताया कि आरोपितों की निशादेही पर ३८ ग्राम वजनी सोने तथा तीस किलो वजनी चांदी के जेवरात बरामद किए।

पुलिस टीम का सम्मान
थाना प्रभारी प्रेमसिंह ने बताया कि आरोपित आशाराम व कालाराम गरासिया को बुधवार को न्यायालय मे पेश किया गया, दोनों को पूछताछ के लिए छह मार्च तक रिमांड पर लिया है। जबकि एक बाल अपचारी को बाल सम्प्रेषण गृह भेज दिया। महज पांच दिन में ही वारदात के खुलासे से जगदीश गांव के लोग व श्रद्धालुओं का खुशी का ठिकाना नहीं था। मंदिर प्रांगण में बुधवार शाम को आयोजित समारोह में पुलिस अधीक्षक शर्मा, एएसपी मिश्रा, डिप्टी मीणा, थाना प्रभारी व विशेष टीम का सम्मान किया गया।


यूं हुई थी वारदात


करेडा उपखण्ड क्षेत्र के उमरी ग्राम पंचायत के जगदीश ग्राम स्थित जगदीश मंदिर मे गत २६ फरवरी को निज मंदिर के मुख्य द्वार के पास ही पुजारी घनश्यामदास वैष्णव व उसका भतीजा कालूदास सोए हुए थे। रात दो बजे के करीब कुछ आहट होने से पुजारी घनश्यामदास की नींद उचट गई, इतने में तीन लोगों ने उसे घेर लिया। इनमें से एक व्यक्ति ने लाठी से पुजारी के सिर पर वार किए, जिससे वह अचेत हो गया । लोगों ने मोबाइल को अपने कब्जे मे ले लिया, पांच मिनिट बाद जब पुजारी को होश आया तो डरा धमका कर लुटेरों ने मंदिर की चांबी उससे ले ली। उन्होंने मंदिर का ताला खोला। इनमें से एक ने पुजारी व उसके भतीजे को बंधक बना कर रखा। शेष दो लुटेरों ने समूचे मंदिर परिसर व भू गर्भ को खंगाल दिया। मंदिर में भगवान की प्रतिमा पर चढ़े श्रृंगार के जेवरात आदि उतार लिए और प्लास्टिक के कट्टों में भर लिए। इस से पूर्व लुटेरों ने मंदिर में लगे सीसीटीवी कैमरे के साथ ही हार्ड ***** उखाड कर रख ली। लुटेरे भागने से पहले पुजारी को उसका मोबाइल दे गए ।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned