भीलवाड़ा में पांच अरब के निर्माण पर लॉक डाउन

कफ्र्यू से लॉक डाउन हुए भीलवाड़ा शहर में पांच सौ करोड़ के निर्माण कार्य अटके हुए है। ये अटके निर्माण कार्य शहर में राह को बाधित कर रहे ह तो वहीं निर्माण कार्य शुरू होने के इंतजार में सैकड़ों श्रमिक विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए है। ऐसे श्रमिकों के सामने रोजी रोटी का संकट भी बना हुआ है।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 10 May 2020, 09:30 AM IST


भीलवाड़ा में पांच अरब के निर्माण पर लॉक डाउन

भीलवाड़ा। कफ्र्यू से लॉक डाउन हुए भीलवाड़ा शहर में पांच सौ करोड़ के निर्माण कार्य अटके हुए है। ये अटके निर्माण कार्य शहर में राह को बाधित कर रहे ह तो वहीं निर्माण कार्य शुरू होने के इंतजार में सैकड़ों श्रमिक विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए है। ऐसे श्रमिकों के सामने रोजी रोटी का संकट भी बना हुआ है। Lock down on construction of five billion in Bhilwara

शहर के विकास एवं नगर नियोजन का जिम्मा संभाले नगर विकास न्यास एवं नगर परिषद के तमाम निर्माण कार्य शहर में २० मार्च से लगे कफ्र्यू के कारण लॉक डाउन है। इनमें अकेले नगर विकास न्यास के करीब तीन सौ करोड़ के निर्माण कार्य है। ये कार्य जोधड़ास हाईलेबल ब्रिज, सांगानेर काजवे, ट्रांसपोर्ट नगर, रामप्रसाद लढ़ा नगर तथा नया पुर बसाने से जुड़े हुए है, जबकि मुख्यमंत्री जनआवास योजना में काम आवेदन में ही अटक गया है। इसी प्रकार उद्यान, सर्किल तथा सरकारी भवनों के निर्माण कार्य पर भी लॉक लगे हुए है।

अटक गए बड़े काम
नगर परिषद की निविदाएं जनवरी व फरवरी में विवादों में रही,इसके बाद नई व्यवस्थाओं में निर्माण कार्य को लेकर विभिन्न निर्माण कार्यो को लेकर करीब दो सौ करोड़ के टेण्डर हुए, कुछेक कार्यों ने निर्माण को गति पकड़ी की कोरोना के संक्रमण ने फिर काम बंद करवा दिए। इसके चलते शहर में अधिकांश वार्डो में पेवर, सीसी सड़क, नाली, नाले, उद्यान, सार्किल, सावर्जनिक भवन व शहर सौंदर्यीकरण के दर्जनों काम अटक गए है।

सड़कों पर रूकी राह
नगर परिषद व नगर विकास न्यास के साथ ही निजी स्तर पर हो रहे भवन निर्माण कार्य २० मार्च से बंद है। निर्माण कार्य अचानक बंद होने से कई निर्माण स्थलों पर निर्माण सामग्री सड़क के बीच में फैली हुई है। इससे आवागमन बाधित हो रहा है और दुर्घटनाएं भी घटित होने लगी है, दूसरी तरफ संवेदकों व भवन निर्माताओं की पीड़ा है कि निर्माण कार्य बंद होने से श्रमिकों को काम पर नहीं बुलाया जा रहा है, निर्माण स्थल सूने होने से यहां निर्माण सामग्री भी चोरी होने लगी है। लोग खुले में पड़ी बजरी, ईंट,कंकरीट,सीमेंट,फर्शी व आरसीसी के सामान के साथ भीतर कमरों से टूटी व फर्नीचर तक खोल कर ले जाने लगे है।
..................................
प्रशासन से मांगा मार्गदर्शन
शहर में नगर परिषद व नगर विकास न्यास से जुड़े निर्माण कार्य कफ्र्यू लागू होने के बाद से बंद है। बिल्डर्स एसोसियेशन ने यह पीड़ा उन्हें बताई, इस पर जिला कलक्टर से मुलाकात कर उन्हें अवगत कराया, जिला कलक्टर ने आश्वस्त किया निर्माण कार्य शुरू हो सके, इसके लिए कार्ययोजना बना रहे है, लेकिन इन सबके लिए जरूरी है कि शहर में नए कोरोना पॉजिटिव केस नहीं आए, दूसरी तरफ निर्माण एजेंसी एवं भवन निर्माताओं को भी सोशल डिस्टेसिंग की पालना करनी होगी।
मंजू चेचाणी, सभापति नगर परिषद
.............................
कोरोना से निपटना जरुरी
कोरोना संक्रमण से शहर को बचाना और कफ्र्यू प्रभावित लोगों को भूखा नहीं सोने देना सर्वोच्च प्राथमिकता रही है। हालात में सुधार हो रहा है, ऐसे में निर्माण कार्य जल्द शुरू हो, ऐसे प्रयास कलक्टर एवं न्यास अध्यक्ष के मार्ग दर्शन में होंगे।
नितेन्द्रपाल सिंह, सचिव, नगर विकास न्यास
.................................
ब्याज पड़ रहा भारी
निर्माण कार्य शहर में ५० दिन से बंद है, बिल्डर्स को आर्थिक परेशानी झेलनी पड़ रही है, निर्माण कार्य शुरू करने के लिए ब्याज पर उठाई राशि भारी पडऩे लगी है। निर्माण स्थल पर सामग्री फैली होने से आवागमन बाधित हो रहा है। श्रमिकों को भी काम नहीं मिलने से उन्हें भी आर्थिक परेशानी उठानी पड़ रही है। इस संदर्भ में नगर परिषद सभापति व आयुक्त को ज्ञापन देकर पीड़ा भी बताई है
महेन्द्र मीणा, महामंत्री, नगर परिषद बिल्डर्स एसोसियेशन भीलवाड़ा

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned