3 मई की रिपोर्ट को कंपर्मेशन के नाम पर रोका

- कोरोना पॉजिटिव की घोषणा करने से क्यों कतरा रहे मेडिकल कॉलेज के अधिकारी
- सूरत से आए दोनो कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आने के 40 घंटे बाद की गई घोषणा

By: Suresh Jain

Published: 05 May 2020, 10:25 PM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सफल रहे भीलवाड़ा मॉडल के नाम कायम रखने के लिए अब अधिकारी तरह.तरह के जतन करने पड़ रहे है। इसके चलते मेडिकल कॉलेज के अधिकारी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद भी उसकी घोषणा समय पर नहीं कर पा रहे है। ऐसे में मरीज के स्वास्थ्य के साथ भी खिलवाड़ किया जा रहा है। उनका समय पर उपचार शुरू नहीं हो पा रहा है। सूरत से आमदला आए युवकों की कोरोना पॉजिटिव की जांच रिपोर्ट 3 मई को आई गई थी। इन दोनो की दूसरी कंपर्मेशन रिपोर्ट तथा सोमवार को दूसरा सैम्पल लेकर जांच करने के बाद भी इनकी घोषणा मंगलवार दोपहर को की गई। जबकि इनके साथ तीन अन्य संदिग्ध को अभी अलग.अलग होटलों में क्वारेटाइन किया गया है।
मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉण् राजन नन्दा ने बताया कि सैम्पलों की जांच चल रही है। रिपो़र्ट पॉजिटिव आने पर उसकी पुन: जांच करते है। इस प्रक्रिया में समय लगता है। जबकि वास्तविकता यह है कि पांच जनों की सैम्पल रिपोर्ट में कुछ गड़बड़ थी। इनमें से दो की रिपोर्ट कुछ ज्यादा गड़बड़ थी। लैब में कार्य कर रहे डाक्टर व लैब टेक्नीशियनों ने मान लिया था कि यह दोनो कोरोना हैए लेकिन रिपोर्ट सही है इसकी पुख्ता मुहर लगाने के लिए रिपोर्ट जोधपुर एम्स को भेज दी थी। वह रिपोर्ट 3 मई को ही एम्स ने पुनरू भीलवाड़ा मेडिकल कॉलेज को भेज दी थी। पुख्ता होने के बाद भी इसकी घोषणा 3 मई को नहीं की। दोनो युवकों को करेड़ा के परि रिसोर्ट से बुलाकर 4 मई को पुनरू सैम्पल लिए गए। जिनकी रिपोर्ट भी रात को आ गई थी। फिर भी इन दोनो रिपोर्ट को टालते रहे। जब बाजार में अफवाह फैल गई कि दो कोरोना पॉजिटिव आए है तब 5 मई को अधिकृत घोषणा दोपहर 12 बजे बाद की गई। गौरतलब है कि गुलाबपुरा के मामले में भी 30 घंटे बाद पॉजिटिव की घोषणा की गई थी।
ऐसा कोई नियम नही है
जोधपुर एम्स के प्रशासक एनआर विश्नोई से सोमवार दोपहर को भीलवाड़ा की रिपोर्ट के बारे में जानकारी ली गई तो उनका कहना था कि जो रिपोर्ट आई थी वह रविवार को ही भेज दी। विश्नोई ने बताया कि ऐसा कोई नियम नहीं है कि पांच पॉजिटिव आने तक इसकी घोषणा एम्स जोधपुर करेगा। रिपोर्ट आते ही उसकी जानकारी देनी होती है जो हम तुरन्त ही दे देते है। घोषणा करने जैसा कुछ भी नहीं है। जो टेस्ट रिपोर्ट भेजते है उसमें क्या है वही बतानी होती है। एम्स के पास कोई रिपोर्ट लम्बित नहीं है। मेडिकल कॉलेज वाले ऐसा कह रहे है कि हमारे पास है तो गलत कह रहे है। इन्हें कोई परेशानी हो तो हमारे से बात कर सकते है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned