पशुपालकों के खाते में जाएगा दुध का पैसा

भुगतान में पादर्शिता आएगी।

By: Suresh Jain

Updated: 16 Oct 2020, 10:28 AM IST

भीलवाड़ा .

भीलवाड़ा जिला दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ ने गुरुवार को नवाचार करते हुए ऑटोमाईजेशन तकनीक के माध्यम से जिले पशुपालकों के खाते में अब संघ सीधा भुगतान करेगी। इससे बिचौलिया से छुटकारा मिलेगा। वही भुगतान में पादर्शिता आएगी। इसका शुभारम्भ गुरुवार को जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम नकाते व डेयरी चेयरमेन तथा मांडल विधायक रामलाल जाट ने माउस का बटन दबाकर किया। इस मौके पर पशुपालकों से ऑनलाइन बात करके खाते में आई राशि के बारे में जानकारी भी ली। महिला पशुपालकों ने इस नवाचार को अच्छा व महिलाओं के लिए बचत वाला नवाचार बताया।
जाट ने बताया कि स्टेलेप्स कम्पनी के माध्यम से तैयार किए गए सॉफ्टवेयर के माध्यम से दुध देने के कुछ समय बाद ही पशुपालक के खाते में राशि जमा हो जाएगी। इससे गुणवक्ता युक्त दुध मिलने के साथ ही मिलावटी दुध पर अंकुश लगेगा। दुध समितियों पर लगाई गई मशीनों पर अब किसी तरह का मिलावटी दुध स्वीकार कर नहीं होगा। वही जो लोग किसानो का शोषण करते थे वह सब समाप्त हो गया है। इस तरह का यह नवाचार राज्य की कॉपरेटिव डेयरी में पहला है।
जाट ने कहा कि पशुपालकों की ओर से समितियों पर दुध देने के साथ ही उनके मोबाईल पर उसकी वेट, फैट और रेट का मैसेज आ जाएगा। इससे पशुपालकों को सही समय पर भुगतान होगा। देशी गाय के दुध व घी के सवाल पर जाट ने कहा कि देश में 2 डेयरी सॉसायटी है और तीसरी सॉसायटी भीलवाड़ा डेयरी है। हमने डीएनए के माध्यम से दुध की पहचान शुरू कि है कि ये गाय का है व भैंस का दुध है। इसके माध्यम से गाय के दुध की पहचान कर उसे आमजन तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे है।
जिला कलक्टर शिव प्रसाद एम नकाते ने कहा कि यह भीलवाड़ा डेयरी का सराहनीय कदम है और इससे किसानों को फायदा मिलेगा। किसानों के खाते में पैसा जमा होने से घोटाले की संभावना नहीं रहेगी। इससे पूर्व भीलवाड़ा डेयरी संघ की बोर्ड बैठक जाट की अध्यक्षता में हुई। इसमें 12 करोड 80 लाख रुपए की रफ्तार परियोजना के तहत 2०० दुग्ध समितियों को चारा गोदाम निर्माण के लिए प्रति इकाई १.५० लाख से ३ करोड़ का अनुदान दिए जाने का निर्णय किया। वही शुक्रवार से मुख्यमंत्री संबल योजना अनुदान राशि २ रुपए प्रति लीटर का भुगतान किए जाने का भी निर्णय किया है। बैठक में संचालक मण्डल सदस्यों के अलावा आरसीडीएफ महाप्रबन्धक एलसी बलाई, उपरजिस्ट्रार अरविन्द ओझा, डेयरी एमडी आशा शर्मा, स्टेलेप्स कम्पनी के अधिकारी अजय पारीक, एलके जैन, अरविन्द गर्ग उपस्थित थे।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned