बारिश ने बढ़ाए मच्छर जनित रोग

सडऩे लगा कचरा, बुखार के आने लगे रोगी

By: Suresh Jain

Published: 25 Jul 2021, 10:45 AM IST

भीलवाड़ा।
बरसात के साथ ही मच्छरों का प्रकोप बढऩे लगा है। इससे मच्छर के काटने से कई बीमारियां पनपती हैं। इनमें डेंगू, मलेरिया, जीका वायरस और चिकनगुनिया शामिल हैं। विशेषज्ञों की मानें तो मौसमी बुखार और मच्छरों के काटने से बीमारियों से प्लेटलेट्स कम हो जाते हैं। साथ ही इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है। प्लेटलेट्स कम होने के चलते डेंगू, मलेरिया समेत अन्य बीमारियों से रिकवरी में लंबा समय लगता है। इसके लिए डॉक्टर डेंगू और मलेरिया के मरीजों को पपीता के पत्तों का जूस पीना चाहिए।
बारिश के ही कारण कई स्थानों पर कचरा जमा हो गया है। ऐसे में पानी गिरने से ऐसे कचरे के ढेरों से बदबू उठ रही है। लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जेल चौराहा, प्रताप टाकिज, आरके कॉलोनी समेत अन्य क्षेत्र से कचरा समय पर नहीं उठाने से कचरे का ढेर जमा है जिसे हटाने के लिए वार्ड वासियों ने क्षेत्र के पार्षद को शिकायत भी की है। ऐसे कई और स्थल हैं जहां जमा गंदगी लोगों के लिए परेशानी का सबब बन रही है। वर्षाकाल में सर्पदंश के मामले बढ़ जाते हैं। ऐसे में जरूरी है कि घरों के आस-पास कचरा न इक्_ा होने दें। इसके अलावा घरों में अनुपयोगी सामानों का संग्रहण न करें।
----
पानी जमा होने से रोके
घरों में कहीं भी पानी जमा नहीं होने दे। घर के बाहर भी कहीं एकत्रित पानी है तो उसे साफ करे या उसमें तेल का छिड़काव करें ताकि मच्छर नहीं पनप सके। मच्छरों से कई तरह की बीमारियां होने की संभावना है।
डॉ. घनश्याम चावला, डिप्टी सीएमएचओ भीलवाड़ा
---
बुखार के आने लगे मरीज
बारिश का मौसम के साथ ही मौसमी बीमारियां भी शुरू हो गई है। पिछले कुछ दिनों से बुखार व उल्टी दस्त के रोगी अस्पताल में आ रहे है। हर रोज १५ से २० मरीज आ रहे है।
डॉ. अरुण गौड़, अधीक्षक एमजीएच भीलवाड़ा

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned