न खरीदार आए- न ही न्यायालय ने आदेश दिया, जब्त बजरी की नीलामी स्थगित

खनिज विभाग ने जब्त कर रखी है २६ हजार टन बजरी

By: Suresh Jain

Published: 20 Nov 2020, 08:31 AM IST

भीलवाड़ा।
खनिज विभाग की ओर से जब्त की गई अवैध बजरी की नीलामी गुरूवार को न्यायालय की ओर से आदेश नहीं मिलने से नहीं हो सकी। इस बजरी की खरीद में किसी ने रूचि भी नही दिखाई। इसके चलते विभाग को नीलामी कार्यक्रम स्थगित करना पड़ा। भीलवाड़ा विभाग के अधीन ७ तहसील क्षेत्रों में करीब २६ हजार ५०० टन बजरी मौके पर ही पड़ी है। इसकी नीलामी को लेकर विभाग ने गुरुवार का दिन तय किया था।
प्रदेश में बजरी पर १६ नवंबर २०१७ से न्यायालय ने रोक लगा रखी है। बजरी माफियों ने अवैध बजरी का दोहन करते हुए लाखों टन बजरी बनास व कोठारी नदी से निकालकर बेच दी है। खनिज विभाग ने अवैध बजरी परिवहन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सात तहसील क्षेत्र में करीब २६ हजार ४७३ टन बजरी को जब्त किया है। विभाग के अनुसार यह बजरी आज भी मौके पर उसी स्थिति में पड़ी है। जिले में सरकारी निर्माण कार्य व निजी कार्य को देखते हुए जिला प्रशासन ने जब्त बजरी को नीलाम करने की योजना बनाई गई। जिसकी दर पहले ३५० रुपए प्रति टन तथा बाद में खनिज विभाग ने इस दर को बढ़ाकर ४२५ रुपए प्रति टन करते हुए नीलामी आदेश निकाले थे। इसके तहत १७ व १८ नवम्बर तक विभाग से नीलामी पत्र लेकर १८ नवंबर को ही निविदाएं बोली भरकर विभाग को देना था। यह लिफाफे १९ नवंबर को खोले जाने थे। लेकिन एक भी व्यक्ति ने निविदा फार्म नहीं खरीदा। इसके पीछे मुख्य कारण बताया जा रहा है कि जब्त बजरी को लेकर पुलिस में मामले दर्ज है। चालान न्यायालय में पेश करने से पुलिस ने इस बजरी को खुर्द-बुर्द करने से मना कर दिया। सूत्रों का कहना है कि विभाग ने न्यायालय से बजरी नीलामी की अनुमति मांगी, लेकिन नहीं मिल सकी। इसके चलते विभाग की ओर से जारी नीलामी सूचना अपरिहार्य कारणों ने निरस्त कर दी। ॉ
यहां पड़ी है बजरी
तहसील कुल स्थान टन
कोटड़ी १० जगह १४८०३
करेड़ा ५ जगह ८२५
फूलियाकलां १ जगह ५०
जहाजपुर २१ जगह ६०२१
भीलवाड़ा २ जगह ३१४
हुरड़ा २ जगह ६५०
हमीरगढ़ ८ जगह ३८१०
कुल योग २६४७३
जब्त बजरी पुलिस की अभिरक्षा में है
अवैध बजरी पुलिस की अभिरक्षा में है। इसकी नीलामी के लिए न्यायालय से अनुमति मांगी थी, लेकिन नहीं मिली। इसके अलावा किसी ने फार्म तक नहीं लिया था। इसके कारण नीलामी स्थगित कर दी है।
नवीन अजमेरा, खनि अभियन्ता भीलवाड़ा

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned