विरोध दिवस पर दो घंटे ओपीडी सेवाएं बंद रखी

डॉक्टर काली पट्टी बांध कर किया विरोध प्रदर्शन

By: Suresh Jain

Published: 18 Jun 2021, 09:30 AM IST

भीलवाड़ा।
राष्ट्रीय आईएमए के आह्वान पर भीलवाड़ा के चिकित्सक शुक्रवार को चिकित्सकों, चिकित्सा कर्मियों के साथ अस्पतालों में बढ़ती हुई हिंसा, मारपीट व तोडफ़ोड़ के विरुद्ध सरकार का ध्यान आकर्षित करने के लिए विरोध स्वरूप सुबह ८ से १० बजे तक ओपीडी सेवाओं का बहिष्कार किया। काली पट्टी, काला मास्क या काली शर्ट पहनकर सेवाएं दे रहे है। इसके साथ चिकित्सकों ने मांग की है कि अस्पतालों में चिकित्सा कर्मियों की सुरक्षा के लिए एक सख्त केंद्रीय कानून लाया जाए। इसमें दोषियों को 10 वर्ष की जेल व जुर्माना तथा तोडफ़ोड़ के कारण हुई हानि की वसूली का प्रावधान हो। कानून को आईपीसी व सीआरपीसी में सम्मिलित कर पुलिस कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। अस्पतालों में सुरक्षा के मापदंड तय कर, पालना सुनिश्चित हो ताकि चिकित्साकर्मी भयमुक्त माहौल में मरीजों का इलाज कर सकें।
भीलवाड़ा आईएमए अध्यक्ष डॉ दुष्यंत शर्मा ने बताया की हाल ही में बाबा रामदेव ने कोविड.19 के इलाज को लेकर की गई टिप्पणी तथा इस महामारी में सेवा करते हुए अपनी जान गंवाने वाले 1000 से ज्यादा चिकित्सकों का मजाक उड़ाने, अपमान करने एवं कोविड.19 के टीकाकरण के बारे में टिप्पणी कर आम जनता को भ्रमित करने के जुर्म में बाबा के खिलाफ एपिडेमिक डिजीज एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग सरकार से की है।
आईएमए सचिव डॉ. महेश गर्ग ने बताया की प्रदेश आईएमए द्वारा प्रदेश के चिकित्सकों के अन्य संगठनों जैसे एपीआई, एएसआई, फॉक्सी, अरिसदा, उपचार के पदाधिकारियों ने भी पत्र लिखकर विरोध दिवस में सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने का आव्हान किया है। आईएमए ने जनता से अपील की है कि वह चिकित्सकों की जायज मांगों को पूर्ण कराने में सहयोग करें। प्रदेर्शन के बाद जिला कलक्टर को ज्ञापन भी दिया जाएगा।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned