पटेलनगर टैंक हादसा: मृतकों के शव घर पहुंचे तो देखने वालों की आंखें हुई नम

tej narayan

Publish: Apr, 17 2018 12:13:45 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2018 01:14:29 PM (IST)

Bhilwara, Rajasthan, India
पटेलनगर टैंक हादसा: मृतकों के शव घर पहुंचे तो देखने वालों की आंखें हुई नम

गमगीन माहौल में मोर्चरी से शव पटेलनगर पहुंचा तो गली छाया सन्नाटा टूट गया।

भीलवाड़ा।
सोमवार देर रात पटेल नगर के एक मकान में पानी के टैंक की सफाई करने को लेकर उतरे मकान मालिक को बचाने उतरे दो युवकों सहित हुई मकान मालिक की मौत के बाद क्षेत्र में सन्नाटा पसर गया। मंगलवार को पोस्टमार्टम के बाद दो शवो को उनके निवास स्थान लाया गया। गमगीन माहौल में मोर्चरी से शव पटेलनगर पहुंचा तो गली छाया सन्नाटा टूट गया।

 

READ: टैंक की सफाई करने उतरे मकान मालिक बचाने उतरे दो पड़ौसियों समेत तीन की जहरीली गैस से मौत, मचा हाहाकार

 

मौके पर लोगो का लगा जमावड़ा गया। चारों तरफ चीख पुकार की आवाजें आ रही थी। वहां मौजूद हर शख्स की आंखे नम थी। पटेलनगर कॉलोनी में शोक की लहर थी। मुकेश माहेश्वरी का शव ले जाने के दौरान उनके उसकी महिला परिजन गश खाकर जमीन पर गिर पड़ी। उसके बाद पड़ोसी महिलाएं पानी छिड़क कर होश में लेकर आई। तब तक शव यात्रा मोहल्ले से गुजर चुकी थी।

 

READ: हरिद्वार-उदयपुर एक्सप्रेस के आगे आत्‍महत्‍या के लिए आई पत्नी को बचाने मासूम को गोद में लेकर दौड़ता पति, लोको पायलट ने लगाए ब्रेक

 

गौरतलब है कि शहर के पटेलनगर के सेक्टर नौ में घर में बना पानी का टैंक सोमवार रात मौत का कुआ बन गया। टैंक ने तीन लोगों की जान ले ली। उसकी सफाई करने उतरे गृहस्वामी की टैंक में जहरीली गैस से मौत हो गई। वहीं बचाव में उतरे पड़ोस के दो युवकों भी जान चली गई। घटना के बाद मोहल्ले में सन्नाटा पसर गया था। पटेलनगर में मुकेश माहेश्वरी (35) के मकान के अंदर टैंक बना है। रात करीब साढ़े आठ बजे मुकेश सफाई के लिए टैंक में उतरा कि जहरीली गैस के कारण अंदर अचेत हो गया। करीब 20 मिनट तक मुकेश की आवाज नहीं आई तो रसोई में खाना बना रही पत्नी ने टैंक में देखा। पति को गिरा देखकर चीखी, जिसे सुनकर पड़ोसी आए। पड़ोसी विनोद पाराशर (22) आया व करीब दस फीट गहरे टैंक में उतर गया। जहरीले गैस से वह भी अचेत हो गया। बचाने के लिए घर के पास रहने वाला श्याम टेलर (40) भी टैंक में उतर गया। वह भी गश खाकर गिर गया। एक के बाद एक तीनों के अचेत हो जाने से अफरा-तफरी मच गई। उन्हें चिकित्सालय ले जाया गया जहां उनकी मौत हो गई।

 

मुंह पर कपड़ा बांध उतरा युवक
घटनाक्रम देख रहा युवक शीशपाल चौधरी ने हिम्मत दिखाई। वह मुंह पर कपड़ा बांध टैंक में उतरा। प्रतापनगर पुलिस भी पहुंच गई। पुलिस ने लोगों के सहयोग से तीनों को निकाला। एम्बुलेंस से उनको एमजीएच लाया गया। जहां चिकित्सकों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया।

रिजनों को नहीं बताया, सन्नाटा
घटना के बाद गली में सन्नाटा पसर गया। बीड़ी के सेल्समैन मुकेश की पत्नी गर्भवती है। दो छोटे बच्चे है। पत्नी को पड़ोसी के ले जाया गया। परिवारों को मौत की खबर से देर रात तक अनजान रखा। उनको बताया गया कि तीनों अस्पताल में भर्ती है। पड़ोसियों में सुगबुगाहट चलती रही।


पड़ोसी धर्म निभाने उतरे, फिर लौटे ही नहीं

पड़ोसी श्याम टेलर का कपड़े का व्यवसाय है। घर पर रेडिमेड का व्यवसाय करता था। उसकी मौत से परिवार पर वज्रपात हुआ। वहीं विनोद अभी पढ़ाई कर रहा है। दोनों पडोसी धर्म निभाने के लिए टैंंंक में उतरे।


लाइन से पुलिस अफसरों ने लगाई दौड़
पुलिस लाइन मैदान पर पुलिस दिवस पर रात को भोज का आयोजन चल रहा था। पुलिस अधिकारी कार्यक्रम में व्यस्त थे। जैसे ही हादसे की सूचना मिली, अधिकारी खाना छोड़ मौके पर भागे। उपाधीक्षक राजेश मीणा, सीआई व्यास, विवेकसिंह व गजेन्द्रसिंह वहां पहुंचे। एफएसएल टीम भी पहुंची।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned