कोरोना संक्रमण बढऩे से फिर कफ्र्यू की ओर धकेल रहे लोग-नकाते

गाइडलाइन की पालना नहीं होने पर कलक्टर ने जताई नाराजगी
अधिकारियों को दिए सख्ती से पालना कराने के निर्देश

By: Suresh Jain

Published: 15 Jul 2020, 06:02 AM IST

भीलवाड़ा।
जिला कलक्टर शिवप्रसाद एम नकाते ने शहर में संक्रमण से बचाव की गाइडलाइन की पालना नहीं होने पर नाराजगी जताते हुए संबंधित विभागों को सख्ती से पालना कराने के निर्देश दिए। कोरोना संक्रमण की बैठक के दौरान मंगलवार को उन्होंने यह हिदायत दी।
बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रशासन राकेश कुमार, मेडिकल कॉलेज प्रिंसिपल डॉ. राजन नंदा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मुस्ताक खान, आरआरटी प्रभारी डॉ. घनश्याम चावला, तहसीलदार अजीत सिंह, पुलिस उपाधीक्षक राहुल जोषी, नगर परिषद आयुक्त एन एल मीणा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।
जिला कलक्टर ने कहा कि आमजन अपने व्यवहार से शहर को एक बार फिर कफ्र्यू की दिशा में धकेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता की ओर से जिस प्रकार से असावधानी का प्रदर्शन किया जा रहा हैं उससे कम्युनिटी संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में प्रशासन को मजबूरन शहर में फिर से कफ्र्यू लगाने का कठोर फैसला करना पड़ सकता है।
नकाते ने तहसीलदार, पुलिस उप अधीक्षक शहर, एवं नगर परिषद आयुक्त को निर्देश दिए कि सोशल डिस्टेंस की पालना नहीं करने पर व मास्क नहीं लगाने वालों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करते हुए नियमानुसार जुर्माना वसूल करें। स्टाल एवं रेस्टोरेंट पर खाने पीने की वस्तुओं की पैकिंग कर बेचने की बजाय वहीं पर खिलाया जाता पाए जाने पर भारी जुर्माना लगाया जाए। की गई कार्रवाई की रिपोर्ट निर्धारित प्रपत्र में भरकर प्रतिदिन प्रस्तुत करने को भी कहा।
नकाते ने कहा कि कन्टेनमेन्ट जोन में भी कफ्र्यू का पालन सही तरीके से नहीं हो रहा है। लोग जागरूक नहीं है और अनजाने में भी वे संक्रमण को फैला सकते हैं। उन्होंने पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए कि घोषित कन्टेनमेन्ट जोन में आवश्यक वस्तु की सप्लाई के अलावा किसी भी प्रकार के आवागमन पर सख्त पाबंदी लगाए।
सुरक्षा के लिए रखे सावधानी
हाल ही में एक मोबाईल दुकानदार एवं एक जूते की दुकान करने वाला व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया। इनके संक्रमण का स्त्रोत पता नही चल पा रहा है। शहरवासियों व जिले वासियों से अपील की जाती है कि वे अपने मोबाइल में अपने आवागमन के रिकॉर्ड को संधारित करें। प्रतिदिन अपने घर आने वालों का रिकॉर्ड नोट करें एवं घर से बाहर जिन जिन स्थानों पर किसी कार्यवश गए है उन्हें भी नोट करें। इससे कान्ट्रेक्ट ट्रैसिंग में काफी आसानी रहेगी। जिन दुकानों पर सामग्री क्रय करने में काफी समय लगता है एवं ग्राहक काफी देर तक दुकान में रहता है उन दुकानदारों को भी एक डायरी मेंटेन करनी चाहिए। जिसमें सभी ग्राहकों के नाम पते व मोबाइल नंबर दर्ज किए जाए।
डायरिया भी हो सकता है कोरोना का लक्षण
बिना किसी विशेष कारण डायरिया होना भी कोरोना संक्रमण का लक्षण हो सकता है ऐसे तथ्य सामने आए हैं। किसी को खांसी बुखार आदि के लक्षण नहीं हो और वह डायरिया से पीड़ित हो तो उसे कोरोना जांच करानी चाहिए। जिला कलेक्टर ने सामान्य सर्दी जुकाम से पीड़ित सभी व्यक्तियों की अनिवार्य सैंपलिंग कराने के निर्देश चिकित्सा अधिकारियों को दिए।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned