नेगेटिव होने के 28 दिन बाद दे सकते हैं प्लाज्मा

प्लाज्मा दान महादान अभियान

By: Suresh Jain

Published: 22 Nov 2020, 09:26 PM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना के इलाज में प्लाज्मा का इस्तेमाल कारगर साबित हो रहा है। प्लाज्मा डोनेशन में ब्लड गु्रप मैच के साथ आपका कोरोना से एक बार संक्रमित होना जरूरी है। पहले संक्रमितों का प्लाज्मा लिया जा रहा था, लेकिन अब संक्रमण के साथ तेज बुखार, खांसी-जुकाम आदि लक्षण हैं तो प्लाज्मा आपके गु्रप वाले कोरोना के गंभीर रोगी के लिए ज्यादा अच्छा रहेगा। विशेषज्ञों की मानें तो प्लाज्मा दान से शरीर में कोई थकावट नहीं आती है। पॉजिटिव से नेगेटिव होने के 28 दिन बाद प्लाज्मा दे सकते हैं। उसके 14 दिन के अंतराल के बाद फिर दे सकते हैं।
यहां के ४० वर्षीय रोहित जोशी ने ठीक होने के बाद जयपुर के महात्मा गांधी अस्पताल की ब्लड बैंक में दो बार प्लाज्मा दिया। जोशी बोले, युवाओं को बिना पूर्वाग्रह से ग्रसित हुए संक्रमण से ठीक होने के बाद प्लाज्मा दान करना चाहिए। इससे कोई थकावट नहीं आती। वे ४० से अधिक बार रक्तदान कर चुक े हैं। इसी प्रकार ऋषिराज सिंह भी प्लाज्मा दे चुके हैं। उनका कहना है कि हम प्लाज्मा देकर गंभीर रोगी की जिंदगी बचा रहे हैं। वे दो बार प्लाज्मा दे चुके हैं।
पत्रिका से प्रेरणा
राजस्थान पत्रिका के प्लाज्मा दान महादान अभियान से प्रेरित होकर भारत विकास परिषद विवेकानंद के सदस्य अतुल शाह ने रविवार को एमजीएच में ओ प्लस प्लाज्मा दिया। केके जिंदल, नितिन हिम्मतरामका व विक्रम दाधीच ने हौसला बढ़ाया।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned