हवा में फिर घुलने लगा प्रदूषण

170 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर

By: Suresh Jain

Published: 14 Jun 2020, 09:43 PM IST

भीलवाड़ा।
वस्त्रनगरी में अनलॉक-1 से वायु प्रदूषण भी अनलॉक हो गया। सड़कों पर वाहनों की दौड़ व फैक्ट्रियों में काम के साथ ही हवा में घुली कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा में वृद्धि हुई है। शनिवार को यह 170 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के स्तर तक पहुंच गई। लॉकडाउन में वाहनों के संचालन पर रोक से शहर में वायु गुणवत्ता की स्थिति में काफी सुधार हुआ था।
भीलवाड़ा में 20 मार्च को जनता कफ्र्यू से वाहनों के पहिए थम गए थे। 31 मई तक लॉकडाउन-4 में निजी व सार्वजनिक परिवहन के साधनों पर ब्रेक लगा रहा। केवल इमरजेंसी सेवा से जुड़े वाहन चलते रहे। इस अवधि में भीलवाड़ा की वायु गुणवत्ता पूर्व की अपेक्षा सुधरी रही थी। एक जून से अनलॉक-1 शुरू होने के साथ ही सड़कों पर फिर भीड़ और वाहनों का दबाव नजर आने लगा है। इससे यहां हवा में घुलने वाली कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है। शनिवार को यह मानक के कई गुना से भी अधिक पहुंच गई। इसका मानक कई गुना माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर है। जून में यह सर्वाधिक स्तर रहा। राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी महावीर मेहता ने बताया कि अनलॉक-1 में वाहनों का संचालन शुरू होने से कार्बन मोनोऑक्साइड की मात्र में वृद्धि हुई है। वाहनों के संचालन से सड़क पर धूल कण उडऩे से अति सूक्ष्म कणों की मात्र में भी वृद्धि हुई है।
इसके अलावा 25 मई से पुन: उद्योगों के चक्के चलने लगे है। इनकी चिमनियों में धुआं फिर निकलने लगा है। इसके कारण भी स्थिति में बदलाव आया है। अब भी अनलॉक के बाद भी कई निजी कार्यालयों में काम ने रफ्तार नहीं पकड़ी है। उद्योग भी अपनी क्षमता से 50 प्रतिशत तक चल रहे है। ऐसे में वायु प्रदूषण और बढऩे की संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned