प्रधानमंत्री आवास योजना: आवास की जगह दुकान बना, शराब ठेके को किराए पर दी

प्रधानमंत्री आवास योजना में जरूरतमंद के हक का लाभ सरपंच ने अपने परिजन को दिला दिया। पात्र व्यक्ति अपने आवास की वर्षोंं से बाट जोहता रहा गया।

By: tej narayan

Published: 14 Oct 2021, 03:08 AM IST

भीलवाड़ा. फूलियाकलां

केंद्र और राज्य सरकार जहां विभिन्न सरकारी योजनाओं आमजन एवं जरूरतमंद लोगों सुविधाएं मुहैया करवाने के लिए नित नई योजनाएं बना रही हैं। उनके कारिंदे योजनाओं में जरूरतमंद लोगों के बजाय अपने मिलने वाले एवं परिजनों को लाभ दिला कर जरूरतमंद लोगों के साथ कुठाराघात कर रहे हैं।

ऐसा ही मामला फूलियाकलां उपखंड क्षेत्र के धनोप गांव में सामने आया हैं। जहां प्रधानमंत्री आवास योजना में जरूरतमंद के हक का लाभ सरपंच ने अपने परिजन को दिला दिया। पात्र व्यक्ति अपने आवास की वर्षोंं से बाट जोहता रहा गया। पंचायत के कर्मचारी उसे इंतजार करने को कहते रहे और दूसरी तरफ उसके नाम का आवास किसी और के बन गया। इसकी उसे भनक तक नहीं लग पाई। मामले की जानकारी पात्र व्यक्ति को लगने पर वह अपनी किस्मत को दोष देते रह गया।

ये है पूरा मामला
धनोप पंचायत की प्रधानमंत्री आवास योजना की पात्रता सूची 2011 में क्रमांक 365 पर धनोप निवासी बजरंग माली का नाम दर्ज हैं। जिसे तत्कालीन सरपंच भगवती देवी ने उसकी पात्रता नियमों के अनुसार पात्र घोषित किया। वर्तमान सरपंच रिंकूदेवी वैष्णव ने अपने परिजनों को लाभ दिलाने के लिए बड़े ससुर उमाजी का खेड़ा निवासी बजरंगदास वैष्णव के नाम निर्माण स्वीकृति जारी कर दिया। पात्र बजरंग माली के धनोप के माली मोहल्ले में कच्चा मकान है। उसके कोई संतान नहीं हैं तथा उसकी पत्नी की पूर्व में मौत हो चुकी हैं। वह अकेला खेती कर अपना जीवन यापन कर रहा है। जबकि सरपंच के बड़े ससुर बजरंगदास वैष्णव के पास पहले से ही रहने को अपने गांव उमा का खेड़ा में अपना पुश्तैनी पक्का आवास मौजूद है।

चल रहा ठेका

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उसके पुत्र राजाराम वैष्णव के नाम धनोप ग्राम के माताजी मार्ग पर स्थित कृषि भूमि आराजी नंबर 101, खसरा स. 2247 हैं। इा भूमि पर योजना का लाभ उठाकर प्रधानमंत्री आवास योजना में बने भवन को किराए पर देर दिया। इसमें शराब का ठेका संचालित किया जा रहा है।

पात्रता को यूं दिखाया ठेंगा
हालांकि बजरंग वैष्णव का आवास धनोप पंचायत के उमा का खेड़ा गांव में स्थित है। जहां वह वर्तमान में भी निवासरत हैं। ग्राम पंचायत ने उसे धनोप निवासी बताकर योजना का लाभ धनोप पंचायत मुख्यालय पर दिला दिया। योजना के लाभार्थी के नियमों में भूमिहीन अथवा निर्धारित कृषि भूमि चाहिए, लेकिन बजरंग वैष्णव के नाम वर्तमान में करीब 10 बीघा भूमि है। जो की पात्रता की श्रेणी में नहीं आता।

प्रधानमंत्री आवास योजना की जानकारी ग्राम विकास अधिकारी के पास होती है। उनसे जानकारी लेंवे।

रिंकू देवी, सरपंच, धनोप

प्रधानमंत्री आवास वहीं बनता है जहां उसकी जिओ ट्रैकिंग होती है। यदि कोई उसे गलत जगह बनाता है या मकान की जगह दुकान या अन्य कुछ निर्माण करता है। तो वह उसकी स्वयं की जिम्मेदारी है। सरकार लाभार्थी को पैसा आवास बनाने के लिए देती है।
-सूरजकरण लड्ढा, ग्राम विकास अधिकारी, धनोप

tej narayan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned