रमजान में घर पर पढ़े नमाज

मस्जिदों में न हो इकट्ठे
शहर काजी की अपील,
कोरोना संक्रमण के मद्देनजर उठाया कदम

By: Suresh Jain

Published: 18 Apr 2020, 08:52 AM IST

भीलवाड़ा।
मुस्लिम धर्मगुरु ने २५ अप्रेल से शुरू हो रहे रमजान के महीने में नमाज घरों में ही पढऩे की गुजारिश की है। इनका कहना है कि कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते एवं लॉकडाउन के मद्देनजर समाजजन एक साथ नमाज के लिए मस्जिद न आएं बल्कि अपने घरों में नमाज अता करें। यह भी कहा कि रमजान में रोजा इक_े खोलने की परंपरा है लेकिन इस बार घर पर ही खोलें। आसपास नजर रखे कि पड़ोसी भूखा न रहे। गरीब व जरूरतमंदों का ख्याल रखें।
शहर काजी मुफ्ती अशरफ जिलानी अजहरी ने पत्रिका के माध्यम से संदेश दिया कि चांद दिखने के साथ रमजान शुरू होगा लेकिन कैलेण्डर के आधार पर २५ अप्रेल से माह शुरू होगा। हालात देखते जिला प्रशासन व सरकार की लगाई पाबंदियों की पालना की जाएगी। कौम से गुजारिश है कि प्रशासन की गाइडलाइन का पालन करें। माहौल खराब करने की कोशिश न करें। गाइडलाइन लोगों व इंसानियत की हिफाजत के लिए है। शहर काजी ने कहा कि मस्जिद में जाने की पाबंदी है ताकि भीड़ जमा न हो। समुदाय से गुजारिश है कि कब्रिस्तान न जाएं। मोहल्ले में ना घूमे व भीड़ जमा न करें। मस्जिद में जिन लोगों की अनुमति है वही नमाज पढ़ेंगे, बाकी अपने घरों में नमाज पढ़ेंगे।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned