शादी का झांसा देकर किशोरी से बलात्कार, पीडि़ता ने दिया बेटी को जन्म

शादी का झांसा देकर १५ साल की किशोरी से बलात्कार का मामला सामने आया है। पीडि़ता सोमवार को पेट दर्द की शिकायत पर मातृ एवं शिशु चिकित्सालय पहुंची। उसने नौ माह की बेटी को जन्म दिया। पता चलने पर बाल कल्याण समिति ने पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज करने की रिपोर्ट पुलिस अधीक्षक को भेजी।

By: Akash Mathur

Published: 03 Dec 2019, 02:30 AM IST

भीलवाड़ा. शादी का झांसा देकर १५ साल की किशोरी से बलात्कार का मामला सामने आया है। पीडि़ता सोमवार को पेट दर्द की शिकायत पर मातृ एवं शिशु चिकित्सालय पहुंची। उसने नौ माह की बेटी को जन्म दिया। पता चलने पर बाल कल्याण समिति ने पॉक्सो एक्ट में मामला दर्ज करने की रिपोर्ट पुलिस अधीक्षक को भेजी। प्रतापनगर थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया। आरोपी की सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

जानकारी के अनुसार मूलत: जयपुर जिले की रहने वाली किशोरी माता-पिता के साथ प्रतापनगर थाना क्षेत्र में रहती है। उसके परिजन मजदूरी करते हैं। उसके बड़ी बहन और भाई है। भाई का जवाहरनगर निवासी दीपकसिंह चौहान दोस्त है। दीपक का उनके घर आना-जाना था। इस दौरान मौका पाकर दीपक ने किशोरी को शादी का झांसा देकर संबंध बना लिए। डेढ़ साल से सम्बंध बना रहा था। इससे वह गर्भवती हो गई।


परिजन जयपुर गए, वहां भी नहीं छोड़ा पीछा

नवरात्र पर पीडि़ता के माता-पिता ईंट भट्टे पर काम के लिए जयपुर गए। पीडि़ता भी वहां चली गई। दीपक वहां भी उससे मिलने पहुंच गया। कुछ माह बाद पीडि़ता वापस भीलवाड़ा आ गई और बहन के साथ रह रही थी।

दर्द समझ दी दवा, कुछ देर में बच्चे को जन्म

रात से पीडि़ता को हल्का पेट दर्द था। उसने गर्भवती होने की बात बड़ी बहन से छिपाई। सुबह दर्द बढऩे पर बहन महात्मा गांधी अस्पताल ले गई। वहां चिकित्सक को दिखाया। चिकित्सक ने पेट दर्द समझ बिना जांच दवा लिख दी। पीडि़ता ने उठने-बैठने में दिक्कत होने पर बहन को गर्भवती होने की बात कही। इस पर उसे मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में स्त्री रोग विशेषज्ञ को दिखाया। उसे भर्ती कर लिया गया। वहां पुत्री को जन्म दिया। बेटी का वजन ढाई किलो है और वह स्वस्थ है। पीडि़ता भी स्वस्थ है।

पहले बदला बयान, दो बार क ाउंसलिंग

किशोरी के मां बनने का पता चलने पर बाल कल्याण समिति अध्यक्ष सुमन त्रिवेदी अस्पताल पहुंची। वार्ड में भर्ती किशोरी से बात की। किशोरी ने जयपुर में बलात्कार की बात कही। वह कुछ बताने को तैयार नहीं हुई। दो बार काउंसलिंग में साफ हुआ कि दीपक ने उसके साथ बलात्कार किया।

अस्पताल दिखा चुका आरोपी, पता था गर्भवती थी

त्रिवेदी को पीडि़ता ने बताया कि कुछ समय पहले आरोपी दीपक और वह शहर के निजी अस्पताल में गए थे। वहां जांच में गर्भवती होने का पता चला था। हालांकि जांच क्यों कराई गई थी। इस बारे में पीडि़ता कुछ नहीं बोल रही। समिति ने आरोपी के बारे में जानकारी प्रतापनगर पुलिस को दे दी है। थानाप्रभारी चैनाराम चौधरी ने बताया कि प्रसव का पता चलने के बाद दीपक फरार हो गया। उसके बारे में अहम सुराग लगा है।

आगे क्या होगा

समिति ने कहा कि पीडि़ता और परिवार से नवजात को खुद मांग रही है। परिवार के बच्ची नहीं चाहने पर किसी की सूनी गोद को भरने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इसके लिए दो माह इंतजार किया जाएगा। पीडि़त प्रतिकर स्कीम से भी पीडि़ता को मुआवजा दिलाने को पत्र लिखा जाएगा। उधर, समिति ने जयपुर में पीडि़ता के माता-पिता को मामले की जानकारी दे दी है। वह भी रात तक भीलवाड़ा पहुंचेंगे।

Akash Mathur
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned