अपनों की मौत के बाद परिजनों की बेरूखी, नहीं ले जा रहे शव

Rude of relatives after death of their loved ones, bodies are not being taken in bhilwara कोरोना की भयावहता के हाल यह है कि शहर में कोरोना संक्रमण से मौत के बाद परिजन ही शवों को मोक्षधाम तक ले जाने के लिए कतरा रहे है। ऐसे में नगर परिषद शवों को लावारिस मानते हुए अंतिम संस्कार कर रही है।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 05 May 2021, 11:38 AM IST


भीलवाड़ा। कोरोना की भयावहता के हाल यह है कि शहर में कोरोना संक्रमण से मौत के बाद परिजन ही शवों को मोक्षधाम तक ले जाने के लिए कतरा रहे है। ऐसे में नगर परिषद शवों को लावारिस मानते हुए अंतिम संस्कार कर रही है। नगर परिषद 9 दिन में ऐसे 59 शवों का अंतिम संस्कार करा चुकी है।

सभापति राकेश पाठक ने बताया कि चिकित्सालयों में कोरोना संक्रमितों की मौत का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। ऐसे में नगर परिषद की एम्बुलेंस शवों को मोक्षधाम तक पहुंचा रही है। यहां नगर परिषद द्वारा ही नियुक्त कर्मी शवों को उतार रहे है। अंतिम संस्कार भी वही कर्मी पीपीई किट में कर रहे है। उन्होंने बताया कि अधिकांश शव ऐसे है, जिनके परिजनों ने शव की अंतिम क्रिया करने से इनकार कर दिया।

सर्वाधिक १३ अंतिम संस्कार

नगर परिषद ऐसे शवों का अंतिम संस्कार कर रही है। मंगलवार को पंचमुखी मोक्षधाम में 13 अंतिम संस्कार हुए। उन्होंने बताया कि शहर में ऑक्सीजन की कमी को दूर करने के लिए ऑक्सीजन प्लांट एमजीएच में लगाने का प्रस्ताव सरकार को भिजवाया है।


नौ दुकानें सीज

आयुक्त दुर्गा कुमारी ने शहर में सुबह कफ्र्यू के दौरान बाजारों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने अनुमति नहीं मिलने के बावजूद नौ दुकान खुली मिलने पर उन्हें सीज कर दिया। जबकि होम डिलवेरी के पास बनाने के बावजूद दुकान खोल कर सामान बेचने पर संचालकों के पास निरस्त कर दिया। इस दौरान ८३०० रुपए का जुर्माना भी दुकानदारों से वसूल किया गया।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned