कोरोना के मुख्य इलाज केंद्र पर ही टूट रहे नियम कायदे

मास्क न सोशल डिस्टेंस
बेहाल एमजीएच, लापरवाह लोग

By: Suresh Jain

Published: 16 Sep 2020, 12:01 AM IST

भीलवाड़ा।
जिले का सबसे बड़ा एमजी अस्पताल कोरोना इलाज का मुख्य केंद्र है लेकिन आउटडोर व पर्ची बनाने के काउंटर से लेकर वार्डों तक लापरवाही का आलम है। अस्पताल प्रशासन की लाख कोशिश के बावजूद यहां आने वाले लोग कोरोना गाइडलाइन की पालना नहीं कर रहे हैं। कोरोना के फैलते पैरों के बीच अस्पताल में चारों ओर लापरवाही फैली है। हालांकि अस्पताल प्रबंधन बचाव के लिए सोशल मीडिया पर जागरुकता फैलाने में जुटा लेकिन एमजीएच में बिन मास्क घूमते मरीज व तीमारदार, झुंड में खड़े लोग आराम से देखे जा सकते हैं।
एमजी अस्पताल के कोरोना जांच केन्द्र के आस-पास अन्य लोगों को भटकने तक नहीं दिया जाता। जांच केन्द्र में रस्सियां बांध कर चिकित्सक रोगियों की जांच करते नजर आए लेकिन ठीक उसके बाहर रिपोर्ट लेने आए लोग सोशल डिस्टेंस नहीं रख रहे थे। आउटडोर में मरीजों का जमावड़ा एेसा अहसास दिला रहा था, मानो कोरोना काल खत्म हो चुका है और सब कुछ पहले जैसा हो गया। मरीज पास-पास खड़े नजर आए। मातृ एवं शिशु चिकित्सालय में हालात और भी भयावह है। मुख्य द्वार में प्रवेश से पहले गार्ड लोगों को रोक कर पूछताछ करते दिखे परन्तु पर्ची व दवा काउंटर पर मरीजों के परिजनों की भीड़ भी दो गज की दूरी का नियम तोड़ रही थी। प्रसूता वार्ड में तीमारदार इतनी संख्या में थे कि रेलवे स्टेशन या बस स्टैंड जैसा नजारा लग रहा था। यहां मरीजों के पास आने वाले तीमारदारों को रोकने वाला कोई नहीं था।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned