सावों की धूम: मेहमानों की सूची लेकर लोग लगे है कतार में

- कोरोना के कारण प्रशासन की सख्ती
-एसडीएम को मिलें ३७५ आवेदन
-सौ मेहमानों की देनी होगी सूची
-समारोह स्थल पर करने होंगे पुख्ता इंतजाम

By: Suresh Jain

Published: 21 Nov 2020, 08:47 AM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना संक्रमण के बीच 25 नवम्बर को देवउठनी एकादशी से विवाह व मांगलिक कार्यों की शुरूआत हो जाएगी। राज्य सरकार की कोरोना गाइडलाइन के अनुसार शादी के लिए एसडीएम को पूर्व सूचना देनी होगी। इसके लिए इन दिनों भीलवाड़ा उपखंड अधिकारी कार्यालय में शादी की सूचना देकर स्वीकृति लेने वालों की कतार लग रही है। एक नवंबर से १९ नवंबर तक ३७५ आवेदकों ने शादी की स्वीकृति मांगी है । इसमें सर्वाधिक 1४५ आवेदन गुरुवार को आए है। इसकी भी वजह है कि इस माह 25, 27 व 30 नवंबर का सावा रहेगा। ३0 का सावा सबसे बड़ा सावा है।
..................
एक साथ जारी होंंगे आदेश..
दिसम्बर में 1, 6, 7, 9, 10 व 11 तारीख के सावे रहेंगे। जिनके घर में दिसंबर में शादी हैं, वे भी अभी से आवेदन देकर स्वीकृति ले रहे है। उपखंड कार्यालय के अनुसार जो भी आवेदन आ रहे हैं, उनकी एक कॉपी पर कार्यालय की सील लगाकर दी जा रही है। अलग से कोई स्वीकृति आदेश नहीं निकाला जा रहा।
..................
प्रशासन रखेगा नजर
सभी आवेदनों की सूची को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय तथा संबंधित पुलिस थाने को भेजा जाएगा। वहां से टीम मौके पर जाकर सुनिश्चित करेगी कि आयोजक की ओर से कोरोना गाइडलाइन की पालना की जा रही है या नहीं।
.........
ऐसे कर सकते हैं आवेदन
आवेदक को शादी की सूचना के लिए सादे कागज पर आवेदन या प्रार्थना पत्र लिख सकते है। उसके साथ अधिकतम 100 मेहमानों की सूची, पिता का आधार कार्ड, दूल्हा या दुल्हन का आधार कार्ड व जन्म तारीख के लिए मार्कशीट साथ लगाकर उपखंड कार्यालय में देनी होगी। यह करना जरुरी उपखंड कार्यालय के अनुसार शादी में आमंत्रित मेहमानों की संख्या सौ से अधिक नहीं हो सकती।
................
सोशल डिस्टेंस व मास्क
कार्यक्रमों के दौरान सोशल डिस्टेंस यानी दो गज की दूरी सुनिश्चित करनी होगी। मुंह पर मास्क लगाना होगा। नो मास्क-नो एंट्री की सख्ती से पालना करनी होगी। स्क्रीनिंग एवं स्वच्छता सुनिश्चित करनी होगी। समारोह स्थल पर प्रवेश व निकास के बिंदुओं पर थर्मल स्केनिंग, हैंडवॉश एवं सेनेटाइजर की व्यवस्था करनी होगी। सामान्य सुविधाओं एवं मानव संपर्क में आने सभी बिंदू जैसे रेलिंग्स, डोर हैंडल्स आदि को बार-बार सेनेटाइज करना होगा।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned