शूटिंग रेंज का ढाई करोड़ का बजट भवन निर्माण में उड़ गया

चित्तौड़ रोड स्थित सुखाडिय़ा स्पोट्र्स कॉम्पलेक्स में तीन साल में ढाई करोड़ रुपए खर्च करने क बावजूद शूटिंग रेंज अभी तक जिले के शूटरों को नसीब नहीं हो सकी। रेंज निर्माण की हालत यह है कि अभी भी शेष कार्य पूर्ण करने के लिए एक करोड़ रुपए की दरकरार है। शूटिंग रेंज नहीं होने से जिले के शूटरों को प्रशिक्षण के लिए जयपुर, गुरुग्राम व दिल्ली की शरण लेनी पड़ रही है।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 25 Oct 2020, 01:18 PM IST


भीलवाड़ा। चित्तौड़ रोड स्थित सुखाडिय़ा स्पोट्र्स कॉम्पलेक्स में तीन साल में ढाई करोड़ रुपए खर्च करने क बावजूद शूटिंग रेंज अभी तक जिले के शूटरों को नसीब नहीं हो सकी। रेंज निर्माण की हालत यह है कि अभी भी शेष कार्य पूर्ण करने के लिए एक करोड़ रुपए की दरकरार है। शूटिंग रेंज नहीं होने से जिले के शूटरों को प्रशिक्षण के लिए जयपुर, गुरुग्राम व दिल्ली की शरण लेनी पड़ रही है।

जिले में निशानेबाजों की उभरती प्रतिभाओं को निखारने के लिए जिला राइफल संघ ने भीलवाड़ा में शूटिंग रेंज के निर्माण का बीड़ा वर्ष २०१७ में उठाया था। पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह ने राज्य सभा सदस्य रहते हुए ५० लाख रुपए सांसद कोष से देते हुए पहल की। तत्कालीन केंद्रीय खेल मंत्री एवं अंतरराष्ट्रीय शूटर राज्यवर्धन सिंह राठौड ़ ने केंद्रीय खेल मंत्रालय से एक करोड़ रुपए की मदद की। नगर विकास न्यास ने रेंज भवन के निर्माण का जिम्मा संभालते हुए एक करोड़ रुपए की राशि दी। सामूहिक प्रयासों से सुखाडिय़ा स्पोट्र्स कॉम्पलेक्स में जून २०१८ में रेंंज भवन का निर्माण कार्य शुरू हुआ। न्यास ने समूचे भवन निर्माण, रेंज उपकरण, फर्नीचर, एसी आदि समेत विभिन्न खर्चों पर कुल ढाई करोड़ रुपए का बजट प्रस्तावित किया था, लेकिन ढाई करोड़ रुपए सिर्फ भवन निर्माण में ही खर्च हो गए।
......................
एक करोड़ से काम अटका
दस हजार स्कवायर फीट क्षेत्र में बनें शूटिंग रैंज भवन का पूरा रंग रोगन होना अभी बाकी, इसी प्रकार शूटिंग के उपकरण, फर्नीचर, एसी आदि भी लगनना है। शूटिंग रेंज निर्माण के लिए बनी कमेटी ने अभी भी रेंज का चालू करने के लिए अभी भी एक करोड़ रुपए की और आवश्यकता बताई है।
......................
परदेस की दौड़ पड़ रही महंगी
एक साथ 40 निशानेबाजों के निशाने साध सकने वाली रेंज का निर्माण कार्य जून 2019 में पूरा होना था, लेकिन निर्माण कार्य अभी अधूरा है। जिले के शूटरों को प्रशिक्षण के लिए परेशानी झेलनी पड़ रही है। कई निशानेबाज दिल्ली, पूना, गुरुग्राम व जयपुर जा कर अभ्यास कर रहे है। जो की बहुत ही महंगा पड़ता है तथा समय भी खराब होता हैं । जिले में 100 निशानेबाज खिलाड़ी है, जिसमें से 20 खिलाड़ी राष्ट्रीय स्तर पर भीलवाड़ा की पहचान बना चुके है। कई खिलाड़ी राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर पदक भी जीत चुके हैं।
...............................................
रेंज भवन निर्माण की नोडल एजेंसी नगर विकास न्यास है, शेष निर्माण कार्य एवं उपकरण लगाने के लिए न्यास को लिखा जा चुका है, लेकिन प्रस्तावों पर असरकारक कार्यवाही नहीं हो सकी है। लम्बे समय से रेंज का निर्माण अटका होने से भवन की भी हालत बिगडऩे लगी है। रेंज के अभाव में जिले में राष्ट्रीय प्रतियोगिता प्रस्तावित होने के बावजूद नहीं हो सकी।
-भगवत सिंह कानावत, सचिव, जिला रायफल संघ भीलवाड़ा
...................
शूटिंग रेंज का सिविल कार्य पूर्ण हो चुका है, बजरी का संकट एवं कोरोना काल के कारण निर्माण कार्य प्रभावित हुआ है। कमेटी की तरफ से शेष कार्य पूर्ण करने के लिए एक करोड़ रुपए के खर्चे का प्रस्ताव आया है। न्यास की ट्रस्ट बैठक में प्रस्ताव रख कर निर्णय लिया जाएगा।
-रामेश्वर शर्मा, अधीक्षण अभियंता, नगर विकास न्यास, भीलवाड़ा

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned