पुरुषों में नसबंदी जागरूकता पखवाड़ा 4 तक

जिले में लगाए जाएंगे शिविर
ग्रामीणों को करेंगे जागरुक, दो चरणों में चलेगा पखवाड़ा
पहला मोबिलाइजेशन, दूसरा सेवा वितरण

By: Suresh Jain

Published: 22 Nov 2020, 11:16 AM IST

भीलवाड़ा।
परिवार नियोजन में पुरुषों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुरूष नसबंदी पखवाड़ा मनाया जाएगा। स्वास्थ्य सेवाओं के वितरण में कोरोना महामारी की चुनौतियों के बीच स्वास्थ्य विभाग की ओर से पुरूष नसबंदी पखवाड़े के तहत दो चरणों के पखवाड़े के पहले चरण में 21 से 27 नवम्बर तक मोबिलाइजेशन सप्ताह एवं द्वितीय चरण में 28 नवम्बर से 4 दिसम्बर तक सेवा वितरण सप्ताह का मनाया जाएगा। माना जा रहा है कि पुरूषों की नसबन्दी में ज्यादा रूचि नहीं होने से यह अभियान शुरू किया जा रहा है।
अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (परिवार कल्याण) डॉ. संजीव शर्मा ने बताया कि पखवाड़े में पुरुष नसबंदी के बारे में लोगों को जागरूक करने के साथ इसके फायदे भी बताए जाएंगे। विभाग की ओर से परिवार नियोजन में पुरूषों की साझेदारी, जीवन में लाए स्वास्थ्य और खुशहाली की थीम पर पखवाड़े के तहत स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, आशा सहयोगिनियों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की ओर से योग्य दंपतियों का सर्वे कर पुरूष गर्भ निरोधक साधनों के लिए संवेदीकरण व पंजीयन करने के साथ अन्य कई गतिविधियां की जाएगी।
शर्मा ने बताया कि सेवा वितरण सप्ताह के दौरान गुणवत्तापूर्ण पुरूष नसबंदी सेवाएं प्रदान की जाएगी। मोबिलाइजेशन पखवाड़े के दौरान प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सहित ब्लॉक स्तर पर कार्यरत सुपरवाइजरी स्टॉफ अपने क्षेत्र में प्रतिदिन निरीक्षण कर रिपोर्ट भेजेंगे। द्वितीय चरण में सेवा वितरण सप्ताह के तहत जिला अस्पताल, ब्लॉक स्तर पर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर परिवार कल्याण सेवाएं प्रदान के लिए नसबंदी शिविर लगाएंगे।
जिले में दो चरणों में चलाए जाने वाले पुरुष नसबंदी पखवाड़े का उद्देश्य पुरुष नसबंदी के बारे में समाज में जागरुकता लाना और पुरुषों द्वारा पुरुष नसबंदी को स्वीकार करने के लिए प्रेरित करना है।शर्मा ने स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को अपने कार्यक्षेत्र में व्यापक प्रचार प्रसार कर पुरुष नसबंदी के केसेज करवाने के लिए विशेष प्रयास करने के साथ अपने क्षेत्र के योग्य दंपतियों से संपर्क कर पुरुषों की परिवार नियोजन में सहभागिता, परिवार नियोजन से साधनों की उपलब्धता, सीमित परिवार के लाभ, दो बच्चों के बीच कम से कम तीन साल के अंतर रखने, पुरुषों की परिवार नियोजन में सहभागिता के प्रति जानकारी प्रदान करने के निर्देश दिए हैं।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned