सिंधी समाज के घरों में नहीं जले चूल्हे

सिंधी समाज के घरों में नहीं जले चूल्हे
Stove not burnt in homes of Sindhi society in bhilwara

Suresh Jain | Updated: 08 Aug 2019, 11:51:57 AM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

शीतला माता की पूजा कर किया ठंडा भोजन

भीलवाड़ा।
Thaddi festival सिंधी समाज की महिलाओं ने थदड़ी पर्व मनाया। इसे छोटी शीतला सप्तमी भी कहा जाता है। सिन्धी समाज के घरों में मीठी मानी, खांखड़, चैपा, खट्टो भत्त, पकवान, भोगाड़ों, चेहरी मानी आदि बनाया गया। इसके बाद चूल्हे को ठण्डा किया गया। बुधवार को किसी के घर चूल्हा नहीं जला। सबने ठण्डा भोजन किया। महिलाओं ने शीतला माता की पूजा की।

https://m.patrika.com/newsdog/satna-news/women-celebrated-thddi-festiva-3-3351198/?fromNewsdog=1&utm_source=NewsDog&utm_medium=referral

Thaddi festival सवेरे महिलाओं ने परिजनों की आंखों के समक्ष अखड़ी लगा परिवार देश की सुरक्षा की कामना की। महिलाओं ने नए वस्त्र पहनकर शीतला माता व वरुणदेव की पूजा अर्चना की। थदड़ी के दिन ठार माता ठार पांजे बचन खे ठार गीत को महिलाओं ने गाया। कुओं, पेड़ के पास पहुंच ठण्डे खाने का भोग लगाया। बच्चों को प्रसाद बांटा। महिलाओं ने शीतला माता के गीत गाए। ठंडा भोजन किया और एक दूसरे को शुभकामनाएं दी। बहन-बेटियों को नेग भी भेजा गया।

 

शीतला माता मंदिर में हुई पूजा-अर्चना
शीतला माता मंदिर में पूजा-अर्चना की गई। व्यंजनों की तैयारी करने के बाद चूल्हे को पीली माटी से लीप कर एक कलश में जल भर कर चूल्हे की पूजा की गई। थदड़ी पर महिलाओं ने पूजा के बाद एक साथ थाली में सरोवर का जल भर कर घर ले आई। इस जल का चूल्हे के अलावा पूरे घर में मंत्रोच्चार के साथ छिड़काव किया। घर में बनाए पकवान को एक थाली में परोसकर फल व मिष्ष्ठान के साथ एक दूसरे को भेजा गया। समाजसेवी किशोर लखवानी ने बताया कि सिंधी समाज की महिलाएं कुए, नदियों, तालाबो पर शीतला माता की पूजा कर घर में सुख शान्ति की कामना की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned