scriptTen people lost their lives in one and a half months due to snake bite | सांप के डसने से डेढ़ माह में दस लोग गंवा बैठे जान | Patrika News

सांप के डसने से डेढ़ माह में दस लोग गंवा बैठे जान

मानसून के आगाज के साथ सर्पदंश और जहरीले जीव के काटने की घटनाएं बढ़ रही है। जिले में पिछले डेढ़ माह में दस लोगों की सर्पदंश से मौत हो गई। इसका बड़ा कारण अतिवृष्टि के साथ बिलों में पानी भर गया। उससे सांप बिलों से बाहर आ रहे हैं और उनके डसने की घटनाएं बढ़ रही है।

भीलवाड़ा

Updated: August 22, 2021 01:40:17 pm

भीलवाड़ा. मानसून के आगाज के साथ सर्पदंश और जहरीले जीव के काटने की घटनाएं बढ़ रही है। जिले में पिछले डेढ़ माह में दस लोगों की सर्पदंश से मौत हो गई। इसका बड़ा कारण अतिवृष्टि के साथ बिलों में पानी भर गया। उससे सांप बिलों से बाहर आ रहे हैं और उनके डसने की घटनाएं बढ़ रही है। हर वर्ष इसके कारण मौत का आंकड़ा बढ़ रहा है। सावधानी जरूरी है। खासतौर से ग्रामीण क्षेत्रों में सर्पदंश किसानों को ज्यादा झेलना पड़ता है।
Ten people lost their lives in one and a half months due to snake bite
Ten people lost their lives in one and a half months due to snake bite
खतरे को भांपते ही करते हमला
बारिश के बाद खेतों और बिलों में पानी भर जाता है। उसके बाद सांप और जहरीले जीव स्थान को छोड़कर सूखे स्थान को तलाशते हैं। यह घर व बाड़े में प्रवेश कर जाते है। इन परिस्थितियों में उनका सामना मनुष्य और पशुओं से होता है। अपने ऊपर खतरा भांपते ही या जरा सी चूक में यह जहरीले जानवार हमला करते है। अधिकांश घटनाएं खेतों में काम करते समय होती है।
तत्काल अस्पताल पहुंचाएं
सांप या जहरीले जीव के काटने पर जिस जगह काटा है। उस पर कपड़े से कसकर बांध दे। तत्काल अस्पताल ले जाएं। भोपों और झाड़-फूंक के चक्कर में ना आए। जिस व्यक्ति को सांप ने काटा है, उसी किसी भी सूरत में सोने नहीं दे। सोने पर जहर तेजी से शरीर में फैलता है। इन परिस्थितियों में इलाज शुरू होने से पहले जान का खतरा रहता है। समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाने के कारण मनुष्य के नर्वस सिस्टम पर असर करता है। फिजीशियन डॉ. मनीष माथुर ने बताया कि सांप के काटे व्यक्ति को वंटीवैनम इंजेक्शन दिया जाता है।
यह बचाव के रास्ते
खेतों में काम करते समय किसानों को लम्बे जूते पहनने चाहिए। बारिश के दिनों में जमीन पर नहीं सोना चाहिए। सांप के काटने पर तत्काल अस्पताल ले जाया जाए। बारिश के दिनों में कबाड़, ईट-पत्थर के ढेर, पेड़-पौधों वाले स्थानों पर सावधानी बरतनी चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीइस एक्ट्रेस को किस करने पर घबरा जाते थे इमरान हाशमी, सीन के बात पूछते थे ये सवालजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहदुल्हन के लिबाज के साथ इलियाना डिक्रूज ने पहनी ऐसी चीज, जिसे देख सब हो गए हैरानकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.