समय पर डाक नही पहुंचाने पर दस हजार का जुर्माना

स्थाई लोक अदालत ने समय पर डाक नहीें पहुंचाने के मामले में डाकघर को दस हजार रुपए हर्जाने के रूप में परिवादिया को देने के आदेश

By: tej narayan

Published: 13 Mar 2018, 12:32 AM IST

भीलवाड़ा।

स्थाई लोक अदालत के न्यायाधीश विष्णुदत्त शर्मा ने समय पर डाक नहीें पहुंचाने के मामले में डाकघर को दस हजार रुपए हर्जाने के रूप में परिवादिया को देने के आदेश दिए। न्यायालय ने इसके लिए अधीक्षक मुख्य डाकघर व पोस्ट मास्टर आसीन्द के विरूद्ध दोष पूर्ण सेवा का उत्तरदायित्व मानते हुए क्षतिपूर्ति व वाद खर्च के रूप में दस हजार रुपए दो माह में परिवादिया को अदा करने के आदेश दिए।

 

 

READ: परिजन विवाहिता को भीलवाड़ा में तलाश रहे थे, अजमेर में दो सप्ताह पहले हो चुकी थी हत्या

 

 

प्रकरण के अनुसार चेनपुरा (आसीन्द) निवासी रेखा गर्ग ने अधिवक्ता गोपाल शर्मा के जरिए परिवाद से न्यायालय से गुहार लगाई कि उसे साक्षात्कार सूचना पत्र बड़ोदा राजस्थान ग्रामीण बेंक भीलवाड़ा द्वारा पंजीकृत डाक से 27 अगस्त 2011 को भिजवाया जो आसीन्द डाकघर में 29 अगस्त को प्राप्त हो गया लेकिन परिवादिया को पत्र 17 सितम्बर को मिला।

 

 

READ: भीलवाड़ा के गौरी परिवार के झंडा चढ़ाने की रस्‍म के साथ ही शुरू होगा गरीब नवाज का उर्स, ख्‍वाजा की नगरी के ल‍िए गौरी परिवार झंडा लेकर रवाना

 

 

इसके चलते 14 सितम्बर को होने वाले साक्षात्कार की उसे जानकारी नहीं हुई और वह साक्षात्कार में उपस्थित नहीं होने से नौकरी से वंचित रह गई। न्यायालय ने इसके लिए अधीक्षक मुख्य डाकघर व पोस्ट मास्टर आसीन्द के विरूद्ध दोष पूर्ण सेवा का उत्तरदायित्व मानते हुए क्षतिपूर्ति व वाद खर्च के रूप में दस हजार रुपए दो माह में परिवादिया को अदा करने के आदेश दिए।

 

13 करोड़ की ठगी के आरोपी को भेजा जेल

भीलवाड़ा. प्रतापनगर पुलिस ने सोने के व्यापार का लाइसेन्स दिलाने के नाम पर 13 करोड़ की ठगी करने के आरोपी को रिमाण्ड अवधि समाप्त होने के बाद न्यायालय में पेश किया जहां से जेल भेज दिया। प्रतापनगर पुलिस के अनुसार भीलवाड़ा निवासी उद्योगपति संजय पेडीवाल से सोने का व्यापार का लाइसेन्स दिलाने के नाम पर गुजरात के साबरकाटा जिले के प्रान्तीज निवासी रहीस पुत्र सुभमिया कसबाती ने 13 करोड़ रुपए लिए और उसके नाम का लाइसेन्स ना बनवाकर अपनी फर्म के नाम से बनवा लिया। मामले में प्रतापनगर पुलिस ने आरोपी को ६ मार्च को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया वहां से रिमाण्ड मिलने के बाद पुछताछ कर सोमवार को पुन: आरोपी को न्यायालय में पेश किया गया। जहां न्यायालय के आदेश पर उसे न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया गया।

 

tej narayan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned