जिसे बच्चे नाना कह कर पुकारते, वो ही सपने चुरा ले गया

भीमगंज थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े लाखों की चोरी की वारदात का पुलिस ने शुक्रवार को राजफाश किया। चोर घर का ही वफादार नौकर निकला। नौकर को घर परिवार के लोग पूरा सम्मान देते थे और बच्चे तो नाना- नाना कह कर पुकारते थे। वही आरोपित ने जुआ व सट्टे की लत्त के चलते कर्ज में डूबने से उसने चोरी की वारदात को अंजाम देना कबूला।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 21 Nov 2020, 12:44 PM IST

भीलवाड़ा । भीमगंज थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े ही लाखों की चोरी की वारदात का पुलिस ने शुक्रवार को राजफाश किया। चोर घर का ही वफादार नौकर निकला। नौकर को घर परिवार के लोग पूरा सम्मान देते थे और बच्चे तो नाना- नाना कह कर पुकारते थे। वही आरोपित ने जुआ व सट्टे की लत्त के चलते कर्ज में डूबने से उसने चोरी की वारदात को अंजाम देना कबूला।

पुलिस के अनुसार भीमगंज थाना क्षेत्र में प्रेमनगर स्थित बोहरा कॉलोनी में गत १५ नवम्बर को लौह व्यवसायी तुराब अली के मकान में दिन दहाड़े चोरी हो गई थी। वारदात के वक्त बोहरा परिवार घर से बाहर था। चोरों ने पन्द्रह फीट की ऊंचाई स्थित बॉलकानी की खिड़की का कांच तोड़ कर वारदात को अंजाम दिया था। चोर यहां से ८५ तोला सोने के जेवरात व साढ़े पांच लाख की नकदी ले गए।

पुलिस अधीक्षक ने दिनदहाड़े हुई वारदात को गंभीरता से लिया और विशेष पुलिस टीम गठित की। पुलिस ने सभी संदिग्ध पहलुओं को टटोला और क्षेत्र के सीसी कैमरे खंगाले। पुलिस ने संदेह के आधार पर बोहरा के यहां गत पन्द्रह साल से नौकरी हलेड़ निवासी छोटू पिनारा उर्फ छोटू मोहम्मद (५२) को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की। पूछताछ के दौरान वो टूट गया और वारदात को अंजाम देना कबूल किया। उसने बताया कि उसे जुआ व सट्टा खेलने की लत्त है और इसमें बड़ी धनराशि हार चुका है।

मालिक का घर ही चुना
आर्थिक स्थिति बिगड़ती देख कर उसने मकान मालिक बोहरा के घर में चोरी की सांजिश रची और उसे अंजाम दिया। आरोपित जुआ-सट्टे के पांच मामले में पूर्व में गिरफ्तार भी हो चुका है।

मौज मस्ती में उड़ाए दिए ढाई लाख
पुलिस ने नकबजनी के आरोपित की निशादेही से 85 तोला वजनी सोने के जेवर व व 2 लाख 68 हजार रुपए की नकदी बरामद की। जबकि शेष राशि आरोपित ने जुआ व मौज मस्ती में उड़ा दी थी।


विश्वास ही तोड़ दिया उसने
हमने तो उसे परिवार का सदस्य माना और पूरा घर उसके भरोसे पर रख छोड़ा था, वो ऐसा विश्वास घात करेगा, किसी ने नहीं सोचा। तुर्राब अली ने बताया कि छोटू पन्द्रह साल से घर की चौकदारी के साथ ही घर का कामकाज देख रहा था, बच्चे नाना-नाना कहते थे और मैं, भी उसे पूरा सम्मान देता और छोटू भाईसॉब पुकारता था। अली बताते है कि पन्द्रह साल में कई बार उसके भरोसे घर को छोड़ा है, लेकिन कभी भी कोई शिकायत नहीं आई। हमने तो उसे औलाद की रहे समझा था।

चोरी करने के बाद भी कर रहा था काम
तुर्राब अली बताते है कि चोरी की वारदात सेे परिवार की पत्नी,बेटी व बहूओं के मन को बेहद टीस पहुंची, सभी का खाना पीना छूट गया और सभी तनाव में थे। वो बताते है कि चोरी की वारदात के बाद भी छोटू सहजता से पूरे घर को संभाले हुए था, मेहमानों की देखभाल कर रहा था, उसके चेहरे या हावभाव से कभी भी नहीं लगा की घर में ही चोरी कर सकता है। वो कहते है कि भीलवाड़ा पुलिस ने पूरी निष्ठा के साथ वारदात का राजफाश किया, हमें भीलवाड़ा पुलिस पर नाज है।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned