scriptThe orders of the deputy director in the city council were aired | City Council नगर परिषद में उप निदेशक के आदेश हुए हवा | Patrika News

City Council नगर परिषद में उप निदेशक के आदेश हुए हवा

आयुक्त के पीए को करना था रिलीव, हाजिरी भरता रहा, वेतन भी खाते में जमा
टेलर ने लगाई आयुक्त को फटकार तो कहा सीएमओ से आ गए थे फोन

भीलवाड़ा

Published: December 03, 2021 10:19:00 am

भीलवाड़ा।
City Council नगर परिषद भीलवाड़ा में अंधेरगर्दी चौपटराज वाली कहावत गुरुवार को उस समय सटीक बैठी, जब स्थानीय निकाय विभाग की उप निदेशक (क्षेत्रीय) अजमेर अनुपमा टेलर ने आयुक्त दुर्गा कुमारी से उनके पीए राकेश बैरवा की जानकारी ली। बताया गया कि वह अवकाश पर हैं। टेलर ने उसकी रिपोर्ट मांगी तो कोई भी नहीं दे पाया। डांट फटकार के बाद खुलासा हुआ कि टेलर के आदेश के बाद भी उसे अजमेर के लिए रिलीव नहीं किया गया। वह रोजाना हाजिरी रजिस्टर पर हस्ताक्षर करता रहा। उसके खाते में वेतन भी जमा हो गया। इस पर उप निदेशक ने कड़ी नाराजगी जताई।
City Council नगर परिषद में उप निदेशक के आदेश हुए हवा
City Council नगर परिषद में उप निदेशक के आदेश हुए हवा

घालमेल ही घालमेल
टेलर ने संस्थापन शाखा के प्रभारी विजय लढ्ढा को बुलाया तो यह भी खुलासा हुआ कि उसके पास केवल ओम विश्नोई के ही रिलीव करने के आदेश आए, बैरवा के आदेश तो मिले ही नहीं। आयुक्त से आदेश की कापी मांगी तो कोई पेश ही नहीं कर सके। टेलर ने अजमेर कार्यालय से पुन: आदेश मंगवाए। अवकाश की सूचना किसे दी इसका जानकारी भी कोई नहीं दे सका। फिर बताया कि मेल पर सूचना आई। टेलर ने सवाल किया कि मेल कितने बजे आया, तो इसका जबाव भी नहीं मिला। सहायक राजस्व अधिकारी तेजभान मीणा ने उपनिदेशक टेलर के सामने लैपटॉप लेकर मेल का पासवर्ड मांगा तो किसी ने बताना भी जरूरी नहीं समझा।

बोलीं आयुक्त...सीएमओ से तीन बार फोन आया
टेलर ने नाराजगी जताते हुए रजिस्टर में तुरन्त उसे रिलीव करने तथा कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश आयुक्त को दिए। जबकि बैरवा व ओम विश्नोई को २७ अक्टूबर को ही रिलीव करने के आदेश दिए गए थे। विश्नोई को रिलीव कर दिया था. जबकि बैरवा को नहीं किया। आयुक्त दुर्गा कुमारी ने बताया कि सीएमओ से तीन बार फोन आ चुके थे कि बैरवा को किन कारणों से हटाया है, तो क्या जवाब देती।

यूडी टैक्स की नहीं हो रही वसूली
नगर परिषद सभापति राकेश पाठक ने टेलर के सामने अपने ही कर्मचारियों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि यूडी टैक्स की वसूली तक नहीं हो रही है। और ना ही एक भी नोटिस जारी किए गए हैं। इस पर अधिकारी पारस जैन ने बताया कि अभियान के दौरान वसूली की जा रही है। लेकिन अब तक कितनी राशि वसूली इसका जवाब नहीं दे पाए। इस शाखा में स्थाई कर्मचारी नहीं होने से लगभग १६ करोड़ रुपए की राशि अटकी हुई है। इसमें सात पेट्रोल पम्प की लीज भी शामिल है, जो वर्ष २०१३ से बकाया चल रही है। इसके अलावा काइन हाउस में पिछले कुछ दिनों से चारा नहीं पहुंचने से गायों के भूखे मरने की शिकायत पर भी नाराजगी जताते हुए तुरन्त चारा सप्लाई करने के निर्देश दिए।

इन पर जताया सन्तोष
प्रशासन शहरों के संग अभियान के दौरान निर्माण स्वीकृति, भू उपयोग परिवर्तन, खांचा भूमि, संयुक्तीकरण के काम में प्रगति पर सन्तोष व्यक्त किया। उन्होंने सभागार में अधिकारियों की बैठक लेकर राज्य सरकार की ओर से चलाए जा रहे अभियान की समीक्षा की। चेयरमैन राकेश पाठक, कमिश्नर दुर्गा कुमारी, अधिशासी अभियन्ता सूर्यप्रकाश संचेती व अखेराम बड़ोदिया सहित अन्य अधिकारियों से प्रगति रिपोर्ट ली। टेलर ने बताया कि दिसम्बर माह में ६९ ए के एक हजार पट्टे जारी करने की स्थिति में हैं। इस दौरान राजस्व अधिकारी पारस जैन, एआरआई तेजभान मीणा, एटीपी राजेन्द्र गुप्ता, एलआर ताराचन्द खेतावत सहित अन्य अधिकारी, कर्मचारी मौजूद थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: इंडिया गेट पर लगेगी नेताजी की भव्य प्रतिमा, पीएम करेंगे होलोग्राम का अनावरणAssembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनाव20 आईपीएस का तबादला, नवज्योति गोगोई बने जोधपुर पुलिस कमिश्नरइस ऑटो चालक के हुनर के फैन हुए आनंद महिंद्रा, Tweet कर कहा 'ये तो मैनेजमेंट का प्रोफेसर है'खुशखबरी: अलवर में नया सफारी रूट शुरु हुआ, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.