नवरत्नों से युक्त रज और जल का हुआ पूजन हुआ

अयोध्या में सोने व चांदी की ईंट भी जाएगी

By: Suresh Jain

Published: 24 Jul 2020, 01:13 AM IST

भीलवाड़ा।
राम जन्मभूमि मंदिर के निर्माण के लिए देश भर से सभी प्रमुख मठ, मंदिर और स्थानों से रज और जल पूजाकर अयोध्या भेजा जाएगा। इसके लिए हरी सेवा धाम में संतों के सानिध्य में नवरत्नों से युक्त रज और जल का पूजन हुआ। हरी सेवा धाम सनातन मंदिर में महंत हंसराम उदासीन के सानिध्य में पंडितों ने पूजन करवाया। भक्तो की ओर से सोने और चांदी की ईंटे भी पूजा की गई। पवित्र रज में हीरा, मोती, मूंगा, नीलम, माणक, लहसुनिया, पन्ना, गोमेद, पुखराज सहित नो रत्नों की पूजा की गई। पूजन में तांबे के कलशो में पवित्र रज और जल भरकर अयोध्या भेजा जाएगा। इस अवसर पर महंत बनवारी शरण काठियाबाबा, संत माया राम, संत गोविंद, राजाराम, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के महानगर संघचालक चांदमल सोमानी, विहिप चित्तौड़ प्रांत के कार्याध्यक्ष सुरेश गोयल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत सेवा प्रमुख रविंद्र जाजू, वनवासी कल्याण आश्रम के रामप्रकाश अग्रवाल, राधा सर्वेश्वर मंदिर के उपाध्यक्ष उमाशंकर शर्मा, विहिप के प्रांत पदाधिकारी ओमप्रकाश बुलिया, विहिप प्रांत के सामाजिक समरसता प्रमुख बद्री लाल सोमानी, दुर्गा वाहिनी की विभाग संयोजिका सीमा पारीक, विहिप जिला अध्यक्ष राम प्रकाश बाहेडिय़ा, स्वदेशी जागरण मंच के महेश नवहाल, विहिप सत्संग प्रमुख बाबूलाल सेन, विहिप नगर उपाध्यक्ष श्यामलाल ओझा, विहिप के गणेश प्रजापत आदि उपस्थित थे। चारभुजा मन्दिर मलान से भक्तों ने मंदिर पर पूजा-पाठ करके 5 अगस्त को राम जन्मभूमि अयोध्या में भूमि पूजन के लिए मन्दिर से जल-मि_ी भेजी गई। इसी तरह जल व मि_ी 25 जुलाई तक सभी मंदिरों से एकत्रित कर संकट मोचन हनुमान मंदिर पहुचाई जाएगी।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned