script17 जुलाई से चार माह मांगलिक कार्यों पर लगेगा ब्रेक | देवशयनी एकादशी 17 जुलाई को है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन भगवान हरि नारायण विष्णु शयन करते हैं। | Patrika News
भीलवाड़ा

17 जुलाई से चार माह मांगलिक कार्यों पर लगेगा ब्रेक

देवशयनी एकादशी 17 जुलाई को है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन भगवान हरि नारायण विष्णु शयन करते हैं।

भीलवाड़ाJul 10, 2024 / 10:25 am

Suresh Jain

देवशयनी एकादशी 17 जुलाई को है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन भगवान हरि नारायण विष्णु शयन करते हैं।

देवशयनी एकादशी 17 जुलाई को है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन भगवान हरि नारायण विष्णु शयन करते हैं।

भीलवाड़ा शाहपुरा देवशयनी एकादशी 17 जुलाई को है। हिंदू धर्म के अनुसार इस दिन भगवान हरि नारायण विष्णु शयन करते हैं। भगवान विष्णु के शयन करने के कारण सभी तरह के मांगलिक कार्य 4 माह बंद हो जाएंगे। इस बार 11 नवंबर को देवउठनी एकादशी से देव उठेंगे।
पंडित अशोक व्यास के अनुसार कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 11 नवंबर को संध्याकाल 6.46 बजे पर शुरू होगी। 12 नवंबर को संध्याकाल 4.04 बजे समाप्त होगी। इस प्रकार 12 नवंबर को देवउठनी एकादशी है। इसके अगले दिन तुलसी विवाह है। व्रती तुलसी विवाह 13 नवंबर को सुबह 6.42 बजे से लेकर 8.51 बजे तक व्रत खोल सकते हैं।
देवशयनी एकादशी का महत्व

आषाढ़ शुक्ल एकादशी के दिन देवशयनी एकादशी मनाई जाती है, जो कार्तिक शुक्ल एकादशी यानी 4 माह तक विष्णु का शयनकाल माना जाता है। देवशयनी या हरिशयनी एकादशी का व्रत करने से समस्त पाप नष्ट होते हैं। इस एकादशी के दिन पीपल में जल अर्पित करना चहिए। भगवान विष्णु को शयन कराने के पूर्व खीर, पीले फल और पीले रंग की मिठाई का भोग लगाना चहिए। इस दौरान कोई भी शुभ व मांगलिक कार्य नहीं होते हैं। यह समय चातुर्मास का होता है।
व्यवसाय पर पड़ेगा असर

देवशयनी एकादशी के कारण विवाह आदि मांगलिक कार्य पर विराम लगने से व्यापार पर भी असर रहेगा। ऑनलाइन कारोबार की तेजी के कारण बाजार में अपेक्षाकृत मंदी की मार झेल रहा है। मांगलिक कार्य बंद होने से इन चार माह में ग्राहकी घटेगी। शादी ब्याह की खरीदारी नहीं होने के कारण ज्यादा मात्रा में सामान लेने वाले, कूलर फ्रिज पंखा एसी एलईडी,कपड़े, ज्वेलरी आदि की खरीदारी नहीं होगी। हालांकि नवरात्र में मांगलिक कार्य होंगे तो बाजार में कुछ तेजी दिखेगी। वर्ष भर में नवरात्र, आखातीज जैसे कुछ अबूझ मुहूर्त होते हैं। जिनमें सभी मांगलिक कार्य किए जा सकते हैं।
देवशयन काल 118 दिन का

इस बार 17 जुलाई से देवशयन काल शुरू हो रहा है जो 118 दिन चलेगा। पिछली बार सावन अधिकमास का होने के कारण 148 दिन चला था। इस बार पिछले बार से सभी त्योहार लगभग 11 दिन जल्दी आ रहे हैं।
ये रहे प्रमुख त्योहार

  • 19 अगस्त- रक्षाबंधन
  • 26 अगस्त- जन्माष्टमी
  • 07 सितम्बर-गणेश चतुर्थी
  • 03 अक्टूबर- शारदीय नवरात्र
  • 12 अक्टूबर- दशहरा
  • 01 नवंबर- दीपावली

Hindi News/ Bhilwara / 17 जुलाई से चार माह मांगलिक कार्यों पर लगेगा ब्रेक

ट्रेंडिंग वीडियो