सीवरेज के यह ढक्कन, बनें है जान के दुश्मन

This cover of sewerage has become the enemy of life भीलवाड़ा शहर में मानसून की पहली बारिश में मासूम बालक की मौत की घटना से सीवरेज परियोजना के अधिकारी सबक नहीं ले पाए है। शहर में दर्जनों स्थानों पर सीवरेज पाइप लाइन के अस्त व्यस्त ढक्कनों के सुध नहीं लेने से यह खतरनाक साबित हो रहे है।

By: Narendra Kumar Verma

Published: 25 Jul 2021, 01:05 PM IST

भीलवाड़ा। शहर में मानसून की पहली बारिश में मासूम बालक की मौत की घटना से सीवरेज परियोजना के अधिकारी सबक नहीं ले पाए है। हालात यह है कि शहर में दर्जनों स्थानों पर सीवरेज पाइप लाइन के अस्त व्यस्त मेन hol

के ढक्कनों के सुध नहीं लेने से यह खतरनाक साबित हो रहे है।

ढक्कनों को लगाने में समतलीकरण प्रक्रिया नहीं अपनाने से अधिकांश लोहे के ढक्कन या तो सड़क से उपर आ रहे है, या फिर कई स्थानों पर सड़क के लेवल से नीचे है। बारिश में मेन hol के ढक्कनों के डूब जाने से यह नजर नहीं आ रहे है। ऐसे में राहगीर व वाहन चालक दुर्घटनाग्रस्त हो रहे है। कई लोगों को तो गंभीर चोंटे भी आई है।

यहां आरसी व्यास कॉलोनी में भाजपा के पुराने कार्यालय के बाहर सीवरेज का ढक्कन दुर्घटना को न्योता दे रहा है। सड़क से एक फीट तक की ऊंचाई पर यह ढक्कन बाहर आया हुआ है। पुर रोड पर सीवरेज पाइप लाइन डालने के बाद मेन ***** के ढक्कन सड़क से ऊपर उठे हुए है। जिससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पडता है। शहर में प्रताप टॉकीज रोड पर सड़क से ऊपर उठे ढक्कन से आए दिन हादसे हो रहे है। मुरली विलास रोड में भी यह ढक्कन आवाजाही बाधित कर रहे है। आर के कॉलोनी, पथिक नगर, सुभाषनगर, आजाद नगर व बापूनगर मेें भी ऐसे दर्जनों ढक्कन लोगों के लिए परेशानी का सबब बने हुए है।

ढक्कनों का करेंगे चिंहिकरण

रूडीप के अधीक्षण अभियंता सूर्यप्रकाश संचेती ने बताया कि शहर की प्रमुख कॉलोनियों व मार्गों का जायजा लिया जा रहा है, यहां सीवरेज का पेचवर्क दुरुस्त किया जाएगा। बारिश को देखते हुए ऐसे मेन hol के ढक्कनों को भी चिंहित किया जा रहा है। जल्द ही ढक्कनों के समतलीकरण कार्य किया जाएगा।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned