नवरात्र व दीपावली की तैयारी में जुटे व्यापारी

कोरोना के बाद बदले हालात से व्यापारियों को कई उम्मीद

By: Suresh Jain

Published: 13 Sep 2021, 10:33 AM IST

भीलवाड़ा।
जिले का व्यापार जगत नवरात्र और दशहरा- दीपावली की तैयारी में जुटा है। दुकानदारों व व्यापारियों ने स्टॉक बढ़ाने के लिए माल की खरीदारी शुरू कर दी है। कुछ ने माल भर लिया। उन्हें ग्राहकी के सीजन का इंतजार है।
भीलवाड़ा शहर के व्यापारियों को अब कोरोना मुक्त वातावरण में बाजार चढऩे की उम्मीद है। यही कारण है कि कई दुकानदारों व व्यापारियों लॉकडाउन के दौरान तालाबंदी को आपदा में अवसर की तरह लिया। इस अवधि में उन्होंने स्थायी निर्माण से लेकर अपने प्रतिष्ठानों को और सजाने-संवारने का काम कर लिया। अब वे ज्यादा ग्राहकी की भी आशा कर रहे हैं। अधिकांश दुकानदारों ने आगामी ग्राहकी सीजन के मद्देनजर सामान की पूरी उपलब्धता करने पर ध्यान केंद्रित किया है।
ग्रामीण ग्राहकी पर निर्भर
शहर का सर्राफा बाजार प्रमुख तौर पर ग्रामीण ग्राहकी पर निर्भर करता है। अगर ग्रामीणों का आगमन कम होता है तो यहां के दुकानदारों का 30 प्रतिशत तक व्यवसाय कम हो जाता है। कोरोना की दूसरी लहर थमने के बाद ग्रामीणों का आगमन अच्छी तादाद में होने लगा है। यह सिलसिला चालू सितंबर और अक्टूबर माह में बढने वाला है। यदि यह दौर जारी रहा तो व्यापारी जगत की दीपावली अच्छी मन जाएगी।
-----
विकल्पों ने संभाला
अन्य शहरों के मुकाबले कोरोना भीलवाड़ा के बाजार के हालात नहीं बिगाड़ सका। यहां अधिकांश के पास वैकल्पिक साधन अवश्य रहे। चाहे वह कृषि हो या सम्पत्ति का किराया व घर के सदस्य के पास सरकारी नौकरी। अब व्यापारी सीजन के लिए तैयारियों में जुटे हैं।
अनिल चौधरी कपड़ा व्यवसायी
-----
तीसरी लहर नहीं आई तो बढ़ेगी ग्राहकी
कोरोना की तीसरी लहर नहीं आई तो बाजार में ग्राहकी बढ़ेगी। इस बार सर्दियों के कपड़े भी काफी हद तक बिकने की उम्मीद है। व्यापारियों ने सर्दियों के कपड़े खरीदने के लिए अभी से आर्डर देना शुरू कर दिया है।
तुलसीराम शर्मा, व्यापारी
----------
नए क्षेत्रों में आजमा रहे हाथ
व्यापार जगत ने तैयारियों में कमी नहीं रखी है। नए क्षेत्रों में भी हाथ आजमाया जा रहा है। अपने व्यापार में बदलाव भी किया है। अब शादी समारोह के बड़े कार्यक्रमों पर भी बाजार की निगाह है।
गिरधारी डांगा, फर्नीचर व्यापारी
-----
ऑनलाइन को कहना होगा ना
बाजार सुधारने के लिए स्थानीय लोगों को सहयोग करना होगा। सबसे पहले फेस्टिव सीजन में ऑनलाइन बाजार को ना कहना होगा। दो साल से कोरोना और ऑनलाइन शॉपिंग के कारण बाजार दिन प्रतिदिन लुढ़का जा रहा है। फेस्टिव सीजन पर स्थानीय बाजारों से लोग खरीदारी करें तो सुधार होगा।
पदम डांगी, व्यापारी

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned