फायरिंग में जान गंवाने वाले दो सिपाहियों के आश्रितों को बीस-बीस लाख

जिले में साढ़े पांच माह पूर्व तस्करों की फायरिंग में जान गंवाने वाले दो सिपाहियों के आश्रितों के लिए राज्य सरकार ने विशेष पैकेज का एेलान किया। दोनों सिपाहियों के परिवारों को बीस-बीस लाख दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को यह निर्णय लिया।

By: Akash Mathur

Published: 20 Sep 2021, 11:31 PM IST

भीलवाड़ा. जिले में साढ़े पांच माह पूर्व तस्करों की फायरिंग में जान गंवाने वाले दो सिपाहियों के आश्रितों के लिए राज्य सरकार ने विशेष पैकेज का एेलान किया। दोनों सिपाहियों के परिवारों को बीस-बीस लाख दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को यह निर्णय लिया। रायला थाने का पवन चौधरी और कोटड़ी थाने का सिपाही ओंकार रायका की जान गई थी। सरकार ने माना कि दोनों जाबांजों ने प्राणों की परवाह किए बिना तस्करों से लोहा लिया।

राजू फौजी और उसका एक साथी अभी भी फरार
इस मामले में सरगना सुनील डूडी समेत एक दर्जन लोग गिरफ्तार हो चुके हैं। इनमें पांच पुलिसकर्मी शामिल हैं, जिनकी तस्करों से मिलीभगती थी। सरगना राजू फौजी और उसका एक साथी फरार है। उनके हरियाणा में छिपने की संभावना है। फौजी पर एक लाख रुपए का इनाम है।

पांच पुलिसकर्मी हो चुके बर्खास्त
तस्करों से मिलीभगत सामने आने के बाद पांच पुलिसकर्मी बर्खास्त हो चुके है। इनमें चार भीलवाड़ा जिले के हैं। इनमें सुनील विश्नोई, महेश निठारवाल, ओमप्रकाश विश्नोई, अमरसिंह जाट तथा राकेश जाट शामिल है। चार पुलिसकर्मियों को पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा तथा एक को चित्तौडग़ढ़ एसपी ने बर्खास्त किया। गौरतलब है कि ९ अप्रेल २०२१ की रात में गाडि़यों में मादक पदार्थ तस्करी कर ले जा रहे तस्करों ने कोटड़ी में नाकाबंदी में रोकने पर ओकार पर फायर करके जान ली। उसके बाद रायला पुलिस से उनकी मुठभेड़ हुई। वहां रायला थाने का सिपाही पवन चौधरी की जान गई।

Akash Mathur
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned