कोरोना संक्रमित मां के साथ घर में तड़प रहे थे दो भाई, वीडियो वायरल हुआ तो प्रशासन दौड़ा

पत्रिका ने कलक्टर को भेजा वीडियो, हरकत में आया प्रशासन
एमजीएच और निजी अस्पतालों के चक्कर लगाने के बाद भी नहीं किया भर्ती
एसडीएम ने घर पहुंच कर तीनों को कराया निजी अस्पताल में भर्ती
एक दिन पहले ही बहन की हुई थी मौत- भाइयों ने वायरल वीडियो में मांगी इच्छा मृत्यु

By: Suresh Jain

Published: 02 May 2021, 09:12 AM IST

भीलवाड़ा।
कोरोना महामारी की भयावहता और उपचार में संक्रमण का एक डरावना चेहरा शनिवार को सामने आया। एक दिन पहले ही बनेड़ा में हाथ ठेले में लिटाकर महिला मरीज को अस्पताल पहुंचाने के बाद भी इलाज में कोताही बरतने से मौत का मामला सामने आया, वहीं शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो ने चिकित्सा विभाग की व्यवस्थाओं की पोल खोल दी। शहर में कोरोना संक्रमण से मां के साथ तड़प रहे दो भाई इलाज के लिए अस्पतालों के चक्कर लगाकर परेशान हो गए। जब कहीं भी इलाज नहीं मिला तो परिजनों ने सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल कर इलाज के अभाव में प्रशासन से इच्छा मृत्यु की इजाजत मांगी। यह वीडियो राजस्थान पत्रिका ने जिला कलक्टर के पास भेजा तो देख प्रशासन हरकत में आ गया। आनन-फानन में उपखण्ड अधिकारी और उनके टीम आटूण रोड स्थित इंदिरा विहार कॉलोनी पहुंची। यहां संक्रमण से तड़पते दोनों भाई और उनकी मां को शहर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया।
दरअसल, शनिवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ। इस वीडियो में महिला और उसके दो बेटे संक्रमण से जमीन पर तड़प रहे थे। इनमें से एक व्यक्ति ने वीडियो में कहा कि वह भीलवाड़ा के आटूण रोड स्थित इंदिरा विहार कॉलोनी से बोल रहा है। दवाई की कमी से वह मर रहे है। अस्पताल के चक्कर काटकर थक गए। किसी अस्पताल ने भर्ती नहीं किया। व्यक्ति ने कहा कि वह एमजीएच समेत निजी अस्पताल के चक्कर काटे गए। उनकी हालत बताई। फिर भी भर्ती नहीं किया। एक दिन पहले ही शुक्रवार को कोरोना से उसकी बहन की मृत्यु हो चुकी है। युवक ने कहा कि उनको अस्पताल में इलाज नहीं दिया जा सकता है तो गोली मार इच्छा मृत्यु दी जाए।
पत्रिका ने कलक्टर-एसपी को भेजा वीडियो
यह वीडियो राजस्थान पत्रिका ने जिला कलक्टर शिव प्रसाद एम नकाते और पुलिस अधीक्षक विकास शर्मा के पास भेजा। वीडियो देखकर जिला कलक्टर हरकत में आ गए। उन्होंने तत्काल उपखण्ड अधिकारी ओमप्रभा को मौके पर जाने के लिए भेजा। इसके बाद उपखण्ड अधिकारी और चिकित्सा विभाग की टीम मौके पर पहुंचे। वहां उनको एक मकान में तीन जनें मिले। इसमें दो भाई तथा 65 साल की महिला बीमार हालत में थे। इन तीनों को एम्बुलेंस मंगवा कर आजादनगर स्थित अम्बेश हॉस्पीटल भर्ती करवाया गया। एसडीएम ओमप्रभा ने बताया कि इनका ऑक्सीजन लेवल 95 होने से अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया था। कमजोरी होने से निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

Suresh Jain Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned