कोरोना कफ्र्यू में राजस्थान में यहां बन गया बजरी का गांव, बना दिए पहाड़

patrika.com/rajsthan news

By: jasraj ojha

Published: 06 Apr 2020, 09:58 PM IST


जसराज ओझा. अरविंद हिरण भीलवाड़ा. राजस्थान में अवैध रूप से बजरी निकालने में आगे भीलवाड़ा के लोगों ने कोरोना कफ्र्यू में भी कमाई कर दी। मतलब जब पूरी पुलिस फोर्स, प्रशासन कोरोना के संकट को उभारने में लगा तो है दूसरी तरफ कुछ लोग नदियों से खुलेआम बजरी निकालकर गांवों में ढेर लगा रहे हैं। यहां तक की पूरे गांव की गलियों और चौक को ही बजरी में ही तब्दील कर दिया। राजस्थान पत्रिका टीम ने रविवार को बनास नदी क्षेत्र में पड़ताल की। इसमें नदी के आसपास कान्याखेड़ी, मंडफिया, हमीरगढ़, ओज्याड़ा, भैंसाकुंडल आदि गांवों का जायजा लिया। इसमें लोगों ने खेतों में फसल की जगह बजरी के ढेर लगा दिए हैं। हद तो जब हुई जब पत्रिका टीम ने कान्याखेड़ी गांव का नजारा देखा। इस गांव के नजदीक ही बनास नदी पड़ती है। आसपास के लोगों ने इस गांव के पूरे चौक को बजरी से भर दिया। यहां तक की गांव में जाने के जो प्रमुख रास्ते हैं इन पर बजरी के ढेर लगा दिए हैं। अब तो गांव में हर तरफ बजरी के ही पहाड़ नजर आ रहे हैं। सूत्रों के अनुसारए ये लोग रात में जेसीबी व अन्य साधन लगाकर नदियों से बड़ी संख्या में बजरी निकाल रहे हैं। इसे कोरोना कफ्र्यू के बाद इसे बाहर भेज दिया जाएगा। अभी पुलिस व प्रशासन दूसरे काम में व्यस्त है इसका फायदा उठा रहे हैं। इसकी सूचना पुलिस को दी गई लेकिन कोई कार्र्रवाई नहीं की गई है।
..............
मुंबईए दिल्ली तक जाती है बजरी
सबसे खास बात है कि भीलवाड़ा के बनास नदी की बजरी केवल स्थानीय उपयोग में ही नहीं आती है बल्कि बाहरी प्रदेशों में भी जाती है। यहां से डंपर भरकर मुंबईए रतलामए दिल्लीए नोएडा तक जाती है। यहां तक की अब तो सीमेंट के कट्टों की तरह बजरी को पैक कर भेजा जाने लगा है। इसमें बजरी को छानकर भर देते हैं ताकि आगे सीधी काम में ली जा सके।
.............
विभाग ने किया था भंडाफोड
भीलवाड़ा में बजरी माफिया इतने सक्रिय है कि ये लोग खनिज विभाग के वाहनों की निगरानी रखते हैं। यहां तक की वाट्सएप पर ग्रुप बना रखे हैं जिसमें अफसरों के आने.जाने की सूचना देते है। खनि अभियंता आसिफ मोहम्मद अंसारी ने पीछा कर रही गाड़ी को पकड़कर इसका खुलासा भी किया था। इसमें दो सौ से अधिक जनों के खिलाफ मंगरोप पुलिस थाने में मुकदमा भी दर्ज करा रखा है।
..........
हमले का रहता है डर
बजरी माफिया की ओर से आए दिन सरकारी अफसरों पर तथा चैकिंग के लिए जाने वाली गाडिय़ों पर हमला किया जाता है। यहां तक भीलवाड़ा में तो हमीरगढ़ व कोटड़ी उपखंड अधिकारी को घेर भी लिया। जहाजपुर क्षेत्र में एक तहसीलदार पर गाड़ी चढ़़ाने का प्रयास किया। इसके बाद सरकार ने बॉर्डर होमगाड्र्स भेजे थे। इसके बाद सख्ती हुई लेकिन कोरोना कफ्र्यू में फिर वही हालात बन गए।
..............
बजरी का यदि कहीं अवैध दोहन हो रहा है तो जांच की जाएगी। जहां भी नदी का एरिया है वहां स्पेशल टीम भेजकर कार्रवाई करेंगे।
आसिफ मोहम्मद अंसारीए खनि अभियंता

jasraj ojha Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned