सेना भर्ती में ऐसा क्या हुआ की मात्र 287 ही हो सके पास

सेना भर्ती में ऐसा क्या हुआ की मात्र 287 ही हो सके पास
What happened in army recruitment, only 287 passed in bhilwara

Suresh Jain | Publish: Jul, 20 2019 09:59:16 PM (IST) Bhilwara, Bhilwara, Rajasthan, India

सेना भर्ती रैली में पहले दिन दौड़े बारां व बंूदी के अभ्यर्थी, आज भाग्य आजमाएंगे चित्तौडग़ढ़ व कोटा के 5232 युवा

भीलवाड़ा।


देश सेवा के जज्बे के साथ युवा कतार में खड़े होकर भारत माता के जयघोष के साथ अपनी बारी का इंतजार कर रहे थे। दूसरी ओर माइक पर अनुशासन का पाठ पढ़ाया जा रहा था। यह नजारा शनिवार तड़के साढ़े तीन बजे सुखाडिय़ा स्टेडियम का था। कोटा सेना कार्यालय की ओर से सेना भर्ती रैली में पहले दिन बारां व बूंदी जिले के ३००७ युवाओं ने हिस्सा लिया। साढ़े तीन बजते ही युवाओं को स्टेडियम में प्रवेश दिया गया। दौड़ सुबह सात बजे तक चली। विफल रहे युवा अपने घर के लिए रवाना हो गए। रविवार को चित्तौडग़ढ़ व कोटा जिले के युवाओं की दौड़ होगी। इसमें ५२३२ अभ्यर्थी शामिल होंगे।

 

https://www.patrika.com/jodhpur-news/jodhpur-army-recruitment-begins-4780701/

 

दौड़ में १० प्रतिशत से भी कम हुए पास
कर्नल कुलदीप सिरोही ने बताया कि भर्ती के लिए बारां व बूंदी के ४३९५ युवाओं ने पंजीयन करवाया था। दौड़ में ३००७ ने हिस्सा लिया। चार सौ मीटर ट्रेक पर चार राउंड ५.३० से ५.४५ मिनट में पूरा करने वाले २८७ युवा सफल रहे। पहले दिन १० प्रतिशत से भी कम युवा सफल रहे। इनमें कई ऐसे थे जो मात्र एक या दो सैकंड से रह गए।

 


मेडिकल व दस्तावेज जांच २६ से
25 जुलाई तक आठ जिलों के अभ्यर्थियों की दौड़ होगी। 26 से 29 जुलाई तक सफल अभ्यर्थियों का मेडिकल एवं दस्तावेजों की जांच होगी। सेना भर्ती रैली में सैनिक सामान्य, सैनिक लर्क, स्टोर कीपर टेनीकल, सैनिक तकनीकी, सैनिक नर्सिंग सहायक तथा सैनिक ट्रेड्समैन की भर्ती होगी।

 


हांफ गए बीच में
कई अभ्यर्थी दौड़ पूरी करने से पहले ही थककर बैठ गए, तो कुछ गिर गए। कई चक्कर आने, नसों में खिंचाव व पेट दर्द के कारण दौड़ से बाहर हो गए। कुछ सैकंड से पीछे रहने वाले अभ्यर्थी सेना में शामिल होने का अंतिम मौका होने की बात कहते हुए मिन्नतें करते नजर आए।


सक्रिय नजर आए दलाल
स्टेडियम के बाहर कुछ लोग युवाओं से बात करते देखे गए। उधर, सेना ने भर्ती स्थल एवं आस-पास दलालों से सावधान रहने के बोर्ड लगाए गए हैं। इनमें अभ्यर्थियों को दलालों की ओर से गुमराह करने के तरीके बताए गए हैं। आर्मी इंटेलीजेंस प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखे हुए है।


झांसे में न आएं युवा
कर्नल सिरोही ने युवाओं से कहा कि वे लोग किसी के झांसे में न आएं। मेहनत की है, तो चयन जरूर होगा। किसी के झांसे में आकर जिंदगी खराब नहीं करें। कोई व्यक्ति पैसे लेकर चयन करवाने की बात करता है, तो इसकी सूचना अधिकारियों को दें।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned