scriptWhat is this development of Vastranagari which is taking a turn in the | वस्त्रनगरी का ये कैसा विकास, जो फाइलों में ले रहा करवट | Patrika News

वस्त्रनगरी का ये कैसा विकास, जो फाइलों में ले रहा करवट

What is this development of Vastranagari which is taking a turn in the files? वस्त्रनगरी को हाईटेक सिटी बनाने की दशा में राज्य सरकार ki मिनी सचिवालय जैसी बहुद्देश्यीय योजना , नया जेल भवन, कोर्ट भवन, कोटा बाइपास पर निजी बस स्टैंड, पुर रोड पर न्यू ट्रांसपोर्ट नगर की योजना भी फाइलों में बंद है।

भीलवाड़ा

Updated: November 08, 2021 10:54:28 pm


भीलवाड़ा। वस्त्रनगरी देश ही नहीं वरन् अन्तरराष्ट्रीय नक्शे पर टेक्सटाइल सिटी के रूप में स्थापित है। विद्युतिकरण के बाद अब अजमेर-उदयपुर रेल लाइन के दोहरीकरण में तब्दील होने का कार्य हो रहा है। लेकिन शहर एवं जिले की कई योजनाएं घोषणाओं के पुलिदें में बंध कर रह गई है। इनमें बहुद्देश्यीय योजना, मिनी सचिवालय, मेमू रेल कोच कारखाना, हमीरगढ़ हवाई अड्डा व हमीरगढ़ अभ्यारण्य अब सपना बनने लगा है। टेक्सटाइल पार्क के लिए जिले को अब राजनीतिक स्तर पर भी लंबी लड़ाई लडऩी होगी। जरूरत अब नगर विकास न्यास व नगर परिषद के साथ ही जिले के सांसद, विधायक व जागरूक संगठनों व संस्थाओं को जयपुर से लेकर दिल्ली तक आवाज उठाने की। किशनगढ़-चित्तौडग़ढ़ सिक्सलेन का कार्य भी अभी भी भीलवाड़ा खंड के कई हिस्सों में बाकी है। What is this development of Vastranagari which is taking a turn in the files?
What is this development of Vastranagari which is taking a turn in the files?
What is this development of Vastranagari which is taking a turn in the files?

राह खुल कर भी हो गई बंद

नगर विकास न्यास के चित्तौडग़ढ़ रोड को चौड़ा कर मार्ग को फोरलेन में तब्दील करने की कार्रवाई वर्ष 2013 में की सबसे थी, इसी प्रकार वर्ष 2010-11 में नेहरू रोड का चौड़ा किया। पुराने एमटीएम से लेकर नया समेलिया फाटक के बीच में कई हिस्सों में न्यास ने सड़क को 60 से लेकर 100 फीट तक चौड़ा किया है। इसी प्रकार पुलिस लाइन से जोधड़ास सौ फीट मार्ग को चौड़ा किया। लेकिन इसी मार्ग का करीब डेढ़ किलोमीटर मार्ग अभी भी अधूरा छूटा हुआ। इस मार्ग पर स्थित रेलवे अंडरब्रिज के सभी निर्माण कार्य घटिया होने से बारिश का पानी लम्बे समय तक भरा रहता है। इसी प्रकार मालोला मार्ग पर फिर अतिक्रमण कारी पसर गए है।
प्रतिमाएं व सर्किल टूट गए
शहर के विकास के परिचायक गौरव पथ व प्रगति पथ के साथ न्यास ने शांति पथ, विकास पथ व नेहरू पथ समेत कई पथ और जोड़े है। महापुरुष, राष्ट्रीय नेता एवं स्वतंत्रता सैनानियों की प्रतिमाओं को तरसते कई चौराहों की आस इस वर्ष न्यास ने पूरी की। शहर में 14 स्थानों पर न्यास ने प्रतिमाएं स्थापित करते हुए चौराहों की दशा सर्किल के रुप में सुधारी, लेकिन शहर में कई सर्किलों पर महापुरूषों की प्रतिमाएं टूट चुकी है और सर्किल बदहाल है। What is this development of Vastranagari which is taking a turn in the files?
योजनाएं हुई कागजी
वस्त्रनगरी को हाईटेक सिटी बनाने की दशा में राज्य सरकार ने मिनी सचिवालय जैसी बहुद्देश्यीय योजना की स्थापना के लिए आरजिया चौराहा पर नींव रखी। ऐसे में मिनी सचिवालय के रूप में एक ही छत के नीचे सभी राजकीय विभागों के होने और अद्र्ध सैनिक बल आरएसी व सीआरपीएफ की बटालियन का मुख्यालय स्थापित होने की राह भी खुली, लेकिन सत्ता, संगठन व विपक्ष के दांवपेच से मिनी सचिवालय जैसी बहुद्देश्यीय योजना ठंडे बस्ते में है। इसी प्रकार नया जेल भवन, कोर्ट भवन, कोटा बाइपास पर निजी बस स्टैंड, पुर रोड पर न्यू ट्रांसपोर्ट नगर की योजना भी फाइलों में बंद है।
सीएम आवास योजना में नहीं दम
प्रदेश की बड़ी आवासीय योजना में नेहरू आवासीय योजना शुमार है। यहां विभिन्न श्रेणियो में २७३६ आवास बनने है। लेकिन यहां मूलभूत की सुविधा एक दशक में भी नहीं जुट सकी। इसी प्रकार मुख्यमंत्री जन आवास हरणी खुर्द योजना व एपीजे अब्दुल कलाम आवासीय योजना भी जरूरतमंदों का अपना आशियाने का सपना अभी तक पूरा नहीं कर पाई है।
यह तालाब व झील नहीं देते शकुन
शहर की आवो हव्व पर प्रदूषण का खतरा नहीं मंडराए, इसी भावना को लेकर न्यास व नगर परिषद ने शहर में कई योजनाओं को गति दी। इसमें मानसरोवर झील, नेहरू उद्यान, शिवाजी पार्क, नेहरू उद्यान यानि लव गार्डन , गांधी सागर तालाब व स्मृति वन प्रमुख है। यहां नेहरू उद्यान व गांधी सागर तालाब के सामने से बारिश के मौसम में गुजरना भी किसी चुनौती से कम नहीं है। यह क्षेत्र बारिश थमते ही सड़ांध मारते है। शिवाजी गार्डन व स्मृति वन भी सुकुन नहीं दे पा रहा है। गौरव बेटी उद्यान भी लोगों को आकर्षित नहीं कर सका है।
मेमू रेल कोच कारखाना हाथ से फिसला
रूपाहेली में राष्ट्रीय कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने 22 सितम्बर 2013 को मेमू रेल कोच कारखाना व चम्बल जल परियोजना के शिलान्यास की नींव रखी थी लेकिन हुरड़ा उपखंड के रूपाहेली में यह मेमू कोच कारखाना अभी भीलवाड़ा के हाथों से फिसलता नजर आ रहा है। इसी प्रकार चम्बल पेयजल परियोजना व सीवरेज कार्य भी सुस्त चाल है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Video Weather News: कल से प्रदेश में पूरी तरह से सक्रिय होगा पश्चिमी विक्षोभ, होगी बारिशVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!पाकिस्तान से राजस्थान में हो रहा गंदा धंधाइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजहार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां

बड़ी खबरें

Mizoram Earthquake: मिजोरम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर रही 5.6 तीव्रताराष्ट्रीय युद्ध स्मारक में विलय की गई अमर जवान ज्योति की लौ; देखें VIDEO'हिजाब' पर कर्नाटक के शिक्षा मंत्री के बयान पर बवाल! जानिए क्या है पूरा मामलाUP Election 2022: राहलु और प्रियंका ने जारी किया कांग्रेस का घोषणा पत्र, युवाओं पर फोकसदिल्ली उपराज्यपाल ने आप सरकार के प्रस्ताव को किया खारिज, वीकेंड कर्फ्यू हाटने और प्रतिबंधों में ढील से इनकारकर्नाटक: शनिवार व रविवार को भी खुलेंगे बाजार लेकिन एक शर्त हैIND vs SA: मायूस विराट कोहली के चेहरे पर आई खुशी, ऋषभ पंत का सिक्स देखकर करने लगे डांसतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.