पानीपत का क्यू हो रहा विरोध, पढि़ए....

फि ल्‍म पानीपत में भरतपुर के पूर्व महाराज सूरजमल के चरित्र को गलत दर्शान के आरोप को लेकर जिले में भी मंगलवार को विरोध के नारे गूंजे। कलक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन हुए, वहीं सिनेमाघर के बाहर फिल्म के पोस्टर जलाए गए। हनुमानगर क्षेत्र में भी विरोध हुआ।

भीलवाड़ा। फि ल्‍म पानीपत में भरतपुर के पूर्व महाराज सूरजमल के चरित्र को गलत दर्शान के आरोप को लेकर जिले में भी मंगलवार को विरोध के नारे गूंजे। कलक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन हुए, वहीं सिनेमाघर के बाहर फिल्म के पोस्टर जलाए गए। हनुमानगर क्षेत्र में भी विरोध हुआ।

जिला मुख्यालय पर जाट समाज ने कलक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन किया, वही सिनेमाघर के बाहर फिल्म के पोस्टर जला कर विरोध जताया। इसी प्रकार हनुमाननगर में भी फिल्म के विरोध में प्रदर्शन हुआ। राजस्‍थान युवा जाट महासभा जिलाध्यक्ष रामपाल चौधरी की अगुवाई में मंगलवार को महासभा कार्यकर्ता कलक्ट्रेट पर एकत्रित हुए। यहां कार्यकर्ताओं ने फिल्म में महाराजा सूरजमल को लोभी और लालची बताने का आरोप लगाया और इस पर विरोध जताते हुए कलक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। इसके बाद फिल्म के प्रदर्शन पर रोक लगाए जाने की मांग को लेकर प्रशासन को ज्ञापन दिया। इस दौरान पूर्व डेयरी चेयरमेन रतनलाल चौधरी, नारायण लाल भदाला, शंकर जाट आदि मौजूद थे।

इसी प्रकार महासभा ने कोतवाली के निकट स्थित सिनेमाघर के बाहर विरोध स्वरुप फिल्म के पोस्टर जलाए और मॉल के बाहर प्रदर्शन किया और फिल्म का प्रदर्शन नहीं करने की मांग की। यहां कोतवाली पुलिस ने समझाइश की वही सिनेमाघर प्रबंधन ने फिल्म का प्रदर्शन नहीं करने की बात कही। सूरज मल के चरित्र को गलत बतायामहासभा जिलाध्‍यक्ष रामपाल चौधरी ने बताया कि पानीपत फि ल्‍म में भरतपुर के महाराज सूरजमल के चरित्र को गलत तरीके से दर्शाया है। सूरजमल एक महान् राजा थे और उन्‍होंने मराठों को हराने के बाद भी अन्‍न,कपड़े और धन दिया था।

Narendra Kumar Verma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned